श्रावण का महीना

भगवान शिव की कृपा पाने के लिए सबसे शुभ महीना माना जाता है, श्रावण का महीना इस साल 25 जुलाई से शुरू हो रहा है। सावन के महीने के रूप में लोकप्रिय, यह आषाढ़ के बाद आता है, जो हिंदू कैलेंडर के अनुसार 24 जुलाई, 2021 को समाप्त होता है। इस अवधि के दौरान, भगवान शिव के उपासक उपवास रखते हैं और कुछ क्या करें और क्या न करें का भी पालन करते हैं। उनका मानना ​​​​है कि भगवान शिव की भक्ति जीवन में समृद्धि और खुशी सुनिश्चित करती है। इस महीने के दौरान, भक्त उत्तराखंड में हरिद्वार के लिए एक कावर यात्रा (तीर्थयात्रा) भी करते हैं। हालाँकि,  कोरोनवायरस महामारी खत्म होने से बहुत दूर है, उत्तराखंड सरकार ने यात्रा को बंद करने का फैसला भी  किया। 

भगवान शिव के अनुयायी, इस महीने के दौरान, सुबह जल्दी स्नान करते हैं, एक मंदिर में जाते हैं और प्रार्थना करते हैं। उपासक पूरे महीने के उपवास को अपने समर्पण और भगवान शिव की प्रार्थना के लिए अत्यंत महत्वपूर्ण मानते हैं। 

उपासक उपवास के दौरान स्वीकृत वस्तुओं जैसे पानी और फल खा सकते हैं। भक्त इस महीने के दौरान बड़ी संख्या में देश भर के शिव मंदिरों में जाते हैं और उपवास के दौरान महा मृत्युंजय मंत्र के साथ-साथ ओम नमः शिवाय का जाप करते हैं।

भगवान शिव को पंचामृत या दूध, घी, दही, गंगाजल और शहद के साथ-साथ बिल्व पत्र का मिश्रण चढ़ाया जाता है। उपासक रुद्राक्ष पहनते हैं और प्रत्येक सोमवार को श्रवण सोमवार व्रत कथा का पाठ करते हैं। इसके अलावा, भक्तों से अपेक्षा की जाती है कि वे शराब और मांसाहार के साथ-साथ अदरक और लहसुन युक्त खाद्य पदार्थों का सेवन करने से परहेज करें 

अगर आपके घर में धन की दिक्कत चल रही है या फिर कारोबार और व्यापार में नुकसान हो रहा है तो हर सोमवार को भगवान महादेव  की विधि  विधान से पूजा करें और अनार के जूस से जल अभिषेक भी  करें । अगर आपकी पत्नी या  परिवार के सदस्यों के साथ झगड़े हो रहे हैं तो शिवलिंग पर पंचामृत से अभिषेक करना चाहिए । इस उपायों को करने से दांपत्य जीवन में बहुत  खुशहाली आती है ।  

अगर आप किसी प्रकार के रोग  से ग्रसित  हैं या अक्सर बीमार रहते हैं तो सावन के महीने में प्रतिदिन शिवलिंग पर जल में काला तिल मिलाएं । उस जल से  शिवलिंग पर अभिषेक करना चाहिए । ऐसा करने से आप जल्द ही  स्वस्थ हो जाएंगे  । 

अगर आपके जीवन में किसी  तरह की परेशानियां चल रही हैं और आपके बने हुए काम बार बार बिगड़े रहे हैं तो अपनी पत्नी के साथ मिलकर भगवान शिव और माता पार्वती की पूजा अर्चना करें. उन्हें चावल की खीर का भोग लगाएं । इस उपायों को करने से आपकी सभी परेशानी अवश्य दूर हो जाएंगी ।

भगवान भोले  की साधना करने से साधक को जीवन के प्रत्येक क्षेत्र में सफलता मिलती है । भगवान भोलेनाथ की कृपा से सारे मनोरथ पूरे होते हैं ।

भगवान शिव को वैद्यनाथ भी कहा गया है, जिनकी पूजा से जीवन से जुड़ा कैसा भी कष्ट, शोक या रोग हो उससे मुक्ति मिलती है ।

भगवान शिव शक्ति के अदिव्तीय पुंज हैं । देवों के देव महादेव की पूजा से साधक के शरीर में अद्भुत उर्जा का संचार होता है । उसे असीम बल एवं साहस की अनुभूति अवश्य होती है ।

भगवान शिव को मृत्युंजय भी  कहा गया है । उनकी पूजा में महामृत्युंजय का जाप करने से अकाल मृत्यु का भय दूर होता है ।

भगवान शिव गृहस्थ जीवन के आदर्श हैं । एक आम आदमी की तरह उनका भी एक भरा पूरा परिवार है ।  ऐसे में भगवान भोलेनाथ की साधना से गृहस्थ जीवन हमेशा सुखी बना रहता है ।

Leave a Reply

Your email address will not be published.