पुष्य-नक्षत्र का महत्व

पुष्य नक्षत्र को हिंदू शास्त्रों में सबसे शुभ माना गया है। पुष्य का अर्थ है ‘पोषण करना’ और इसलिए यह नक्षत्र ऊर्जा और शक्ति प्रदान करता है। इस नक्षत्र में जन्म लेने वाले जातक लोगों की मदद और सेवा के लिए हमेशा तैयार रहते हैं. ये अपनी मेहनत और काबिलियत से जीवन में आगे बढ़ने में भी विश्वास रखते हैं। ऐसा कहा जाता है कि इस शुभ दिन पर धन और समृद्धि की देवी – मां लक्ष्मी का जन्म हुआ था। इस नक्षत्र खोजक का उपयोग करके अपने जन्म नक्षत्र की गणना करें। जब पुष्य नक्षत्र गुरुवार या रविवार को होता है, तो उस योग को क्रमशः गुरु पुष्य नक्षत्र योग या रवि पुष्य नक्षत्र योग के रूप में जाना जाता है। ये योग अक्षय तृतीया, धनतेरस और दिवाली जैसी धार्मिक तिथियों के समान ही शुभ हैं। ऐसा माना जाता है कि पुष्य नक्षत्र के दिन देवी लक्ष्मी जिस भी जातक के घर में निवास करती हैं और उसमें लंबी अवधि तक रहती हैं। इसलिए इस काल को पवित्र माना जाता है। पुष्य नक्षत्र का स्वभाव देखभाल करने वाला और पुरस्कृत करने वाला होता है। शुभ पुष्य नक्षत्र के दौरान किए गए कार्यों से जीवन में समृद्धि आती है। इसके अलावा, जैसा कि इस विशेष दिन पर ग्रह अनुकूल स्थिति में गोचर करते हैं ।  – पुष्य-नक्षत्र

पुष्य नक्षत्र का स्वामी शनि है इसलिए इस नक्षत्र में आपके घर में जो धन-समृद्धि आई है वह सदा बनी रहेगी। इसके अलावा, पुष्य नक्षत्र के दौरान की गई कोई भी गतिविधि हमेशा सफलता और सिद्धि की ओर ले जाती है. इस प्रकार पुष्य नक्षत्र विवाह को छोड़कर सभी शुभ कार्यों के लिए वांछनीय माना जाता है। इसके अलावा, व्यापारी दिवाली के त्योहार के दौरान खाता बही खरीदते समय पुष्य नक्षत्र को विशेष महत्व देते हैं। इसके अतिरिक्त, एक वर्ष के दौरान जब भी गुरुपुष्यामृत योग होता है तो विशेष रूप से सोना, आभूषण और रत्न खरीदने की सदियों पुरानी परंपरा है।  

पुष्य नक्षत्र दिवस पर किए जाने वाले शुभ कार्य: – पुष्य-नक्षत्र

  • इस नक्षत्र के दौरान आपके घर में जो धन और समृद्धि आई है वह हमेशा बनी रहेगी।
  • अध्ययन और ज्ञान प्राप्त करने का अवसर। इस दिन आध्यात्मिक कार्य भी किए जा सकते हैं।
  • मंत्र, यंत्र, पूजा, जप और अनुष्ठान के लिए शुभ दिन।
  • समृद्ध जीवन जीने के लिए देवी लक्ष्मी की पूजा करें और श्री यंत्र खरीदें।
  • इस अवधि के दौरान किए गए सभी धार्मिक और वित्तीय गतिविधियों के माध्यम से आप विकास प्राप्त करेंगे।

जब पुष्य योग गुरुवार और रविवार को होता है, तो इसे क्रमशः गुरु पुष्य योग और रवि पुष्य योग के रूप में जाना जाता है, जिन्हें शुभ माना जाता है। इस दौरान छोटे बच्चों का उपनयन संस्कार किया जाता है। फिर, उन्हें पहली बार स्कूल भेजा जाता है। इसलिए इन दोनों योगों का ज्ञान से भी शाश्वत बंधन है। इसके अलावा, शनि (शनि) और बृहस्पति (गुरु) के बीच संबंध को ज्ञान प्राप्त करने के लिए एक उत्कृष्ट संयोजन माना जाता है। पंचांग (पंचांग) का उल्लेख करने के बाद सभी गतिविधियों को करने की सलाह दी जाती है । 

पुष्य नक्षत्र: शुभ कार्यों के माध्यम से लाभकारी परिणाम प्राप्त करने का शुभ अवसर:

  • इस दिन प्रार्थना या अनुष्ठान करके जीवन के सभी क्षेत्रों में सफलता का स्वाद चखें।
  • आपकी कुंडली में पीड़ित सूर्य के प्रतिकूल प्रभाव को कम किया जा सकता है।
  • इस दिन किए गए सभी कार्यों में सफलता और सिद्धि प्राप्त करें।
  • लंबी अवधि में निवेश अच्छा रिटर्न देगा।
  • कार्य प्रभावशीलता और गुणवत्ता में भी सुधार होता है।
  • मनोवांछित फल की प्राप्ति के लिए इस उपयुक्त दिन पर विशेष रूप से देवी लक्ष्मी की पूजा करें। – पुष्य-नक्षत्र

हालांकि, पुष्य नक्षत्र विवाह के लिए विशेष रूप से वर्जित है, क्योंकि यह शापित था। इसके अलावा, पुष्य नक्षत्र के दौरान आयुर्वेदिक दवाएं खरीदी और प्रशासित की जाती हैं। इस प्रकार पुष्य नक्षत्र हमें अपने जीवन में धन और समृद्धि को आमंत्रित करने का अवसर प्रदान करता है, और सभी शुभ कार्य खुशी से संपन्न होते हैं।  

गुरु पुष्य नक्षत्र आज 677 साल बाद बन रहा है, इसका क्या मतलब है? खरीदारी के लिए शुभ दिन के बारे में और जानें 

ज्योतिष शास्त्र में सभी 27 नक्षत्रों में से पुष्य नक्षत्र को सबसे अच्छा माना जाता है धनतेरस और दिवाली की तैयारी के लिए लोग जमकर खरीदारी करने जा रहे हैं. ऐसे लोगों के लिए 28 अक्टूबर गुरुवार का दिन बहुत ही शुभ संयोग और किस्मत वाला रहने वाला है। इस दिन पुष्य नक्षत्र होगा और गुरु शनि की दुर्लभ युति होगी। ज्योतिषियों के अनुसार गुरु पुष्य नक्षत्र पर ग्रहों की ऐसी स्थिति 677 वर्ष बाद बन रही है। अमृत सिद्धि योग और सर्वार्थ सिद्धि योग इस समय को और शुभ बना देंगे। – पुष्य-नक्षत्र

गुरु-पुष्य नक्षत्र की विशेष  बातें…

– नक्षत्र ज्योतिष के अनुसार सभी 27 नक्षत्रों में से पुष्य को सर्वश्रेष्ठ माना गया है। पुष्य सभी अरिष्टों का नाशक है। विवाह को छोड़कर अन्य कोई भी अन्य कार्य आरंभ करना हो तो पुष्य नक्षत्र श्रेष्ठ मुहूर्तों में स एक है। अभिजीत मुहूर्त को नारायण के ‘चक्रसुदर्शन’ के समान बहुत ही  शक्तिशाली बताया गया है फिर भी पुष्य नक्षत्र और इस दिन बनने वाले शुभ मुहूर्त का प्रभाव अन्य मुहूर्तो की तुलना में सर्वश्रेष्ठ माना गया है। – पुष्य-नक्षत्र

गुरु पुष्य नक्षत्र            पुष्य योग               श्री यंत्र

Leave a Reply

Your email address will not be published.