Home Automation ऑप्टिकल कैरेक्टर रिकग्निशन (OCR) कियोस्क मशीन

ऑप्टिकल कैरेक्टर रिकग्निशन (OCR) कियोस्क मशीन

written by Atul Mahajan January 15, 2018
OCR

OCR यानी “ऑप्टिकल कैरेक्टर रीडर” जो ऑप्टिकल कैरेक्टर रिकॉग्निशन तकनीक पर काम करता है जिससे हाथ से लिखे या टाइप कर प्रिंट किये या किसी न्‍यूजपेपर या बुक के किसी भी पेज को स्‍कैन कर टैक्‍स्‍ट में कन्‍वर्ट किया जा सकता है जिससे उसे दोबारा ए‍ेडिट किया जा सके।

असल में यह सॉफ्टवेयर  कुछ-कुछ आर्टिफीसियल  इंटेलिजेंस  यानी कृत्रिम बुद्धिमत्ता पर आधारित हैं, जब आप स्‍कैनर से कोई भी पेज स्कैन  करते हो तो, OCR प्रकाश द्वारा छपे हुए अक्षरों की बनावट से उनकी पहचान करता है और उसे टेक्स्ट  में बदल देता है, अब तो कुछ सॉफ्टवेयर  यहॉ तक सक्षम हैं कि आपकी हैंडराइटिंग  को भी पहचान कर उसे भी टेक्स्ट  में बदल देते हैं साथ ही साथ आपकी स्पेलिंग  को चैक कर लेते हैं।

उपनगरीय यात्रियों के लिए यूटीएस मोबाइल ऐप के माध्यम से बुक किए गए टिकटों की त्वरित छपाई के लिए भारतीय रेलवे ओसीआर कियोस्क मशीनों का परिचय करता है।

पश्चिमी रेलवे आज से इस सुविधा का परिचय करने वाले पहला क्षेत्रीय रेलवे बन गया है, i.e. 11 जनवरी, 2018 को अपने पांच मुंबई उपनगरीय स्टेशनों पर।

भारतीय रेलवे अपनी विभिन्न गतिविधियों के निष्पादन की सुविधा के लिए नई तकनीक के आधार पर कदम उठा रही है। यह अब उपनगरीय यात्रियों द्वारा मोबाइल फोन के लिए यूटीएस ऐप के माध्यम से बुक किए गए टिकटों की त्वरित और आसान मुद्रण के लिए आधुनिक ऑप्टिकल कैरेक्टर रिकग्निशन (OCR) कियोस्क मशीनों को पेश करने का निर्णय लिया गया है।

पश्चिमी रेलवे के मुंबई उपनगरीय यात्रियों के लिए यह सुविधा शुरू करने के लिए पश्चिमी रेलवे (मुख्यालय मुंबई) पहला रेलवे क्षेत्र बन गया है। यह नई सुविधा टिकटों का मुद्रण बहुत आसान और तेज़ हो जाएगी इस सुविधा के तहत बस ओसीआर कियोस्क मशीन में प्रदान किए गए नामित स्लॉट में यूटीएस मोबाइल ऐप के माध्यम से टिकट के एसएमएस को प्रदर्शित करने वाले मोबाइल फोन की स्क्रीन को आसानी से रखकर मशीन आसानी से एसएमएस और प्रिंट टिकट पढ़ लेगा।

पहले चरण में, 25 ओसीआर कियोस्क की स्थापना पश्चिमी रेलवे द्वारा की गई है, जिसमें से 20 किओस्क स्थापित किए गए हैं और आज सुबह 11 जनवरी 2018 को पश्चिमी रेलवे के पांच मुंबई उपनगरीय स्टेशनों जैसे चर्चगेट (1 कियॉस्क), कार्यान्वित किया गया है। दादर (6 कियॉस्क), बांद्रा (3 कियोस्क), अंधेरी (5 कियॉस्क) और बोरिवली (5 किओस्क)। इसके अलावा, चर्चगेट में पांच और ओसीआर कियॉस्क की स्थापना प्रक्रिया में है और जल्द ही इसे स्थापित किया जाएगा।

इन कियोस्क का उपयोग यात्रियों को यूटीएस मोबाइल एप के माध्यम से बुक किए जाने वाले टिकटों का प्रिंट आउट प्राप्त करने और बुकिंग काउंटर / एटीवीएम मशीनों पर कतारों को कम करने की सुविधा प्रदान करेगा जिससे यूटीएस मोबाइल एप के माध्यम से लेनदेन को बढ़ावा मिलेगा। वर्तमान में, यात्रियों को अपने मोबाइल नंबर और बुकिंग आईडी को एटीवीएम मशीनों में अपने टिकट मुद्रित करने या इसे यूटीएस काउंटर के माध्यम से प्राप्त करने के लिए अपने मोबाइल पर प्राप्त करना है। कियॉस्क में प्रदान किए गए नामित स्लॉट में एसएमएस को प्रदर्शित करने की सुविधा के साथ ही टिकट की छपाई का समय भी कम हो जाएगा क्योंकि मशीन में एसएमएस और प्रिंट टिकट को तुरंत पढ़ा जाएगा।

You may also like

Leave a Comment

Loading...