हाइक – भारतीय मैसेंजर सेवा

क्या आप जानते है , हमारा  प्राचीन भारतीय पेय , लस्सी, छांछ या निम्बू  पानी हुवा करता था  ?  मतलब प्राचीन भारत में मेहमाननवाज़ी भारतीय पेय , लस्सी, छांछ या  निम्बू  पानी से हुवा करती थी । आज कल ये जो चाय का चलन है ये हमे अंग्रेजो की देंन है । प्राचीन भारत में लोगो के लिए  चाय एक अजूबा हुवा करती थी । उस समय भी  इन्होने  चाय की मार्केटिंग बिलकुल ऐसे ही की थी जैसे आज व्हटसअप  की कर चुके है या कर रहे है । यांनी उस समय  चाय हर शहर के चौराहे और गाँवो के नुक्क्ड़ो पर फ्री ऑफ़ चार्ज यानि की बिना किसी शुल्क के , हमारे पूर्वजो को पिलाई जाती थी । इसकी खेती अंग्रेजो के उधर ही होती थी तथा वे जानते थे  की बाद में यही भारतीय इस चाय को किसी भी कीमत पर खरीदेंगे और वही हुवा , आप देख सकते है की आज चाय की एक आम भारतीय का लिए क्या अहमियत हो चुकी है । जी नहीं आप मुझे गलत समझ रहे है | में आपने विषय से बिलकुल भी  नहीं भटका हूँ । इतनी बात इसीलिए  कर रहा हूँ की जैसे उस समय हमारे पूर्वजो ने इनकी चाय को अंगीकार कर लिया था , मेरी आप सभी से गुजारिश है की आप  व्हटसअप को मत कर लेना । व्हटसअप जल्दी ही आप लोगो से पैसे की मांग करेगा  उस  समय आपको  व्हटसअप को हटाकर भारतीय मोबाइल संदेश सेवा  हाइक  को अपना कर करोड़ो रूपये भारत के बाहर जाने से रोक सकते है ।

आइये जानते हैं हाइक मैसेंजर के बारे में मेरी गारंटी   है की इसमें व्हाट्सप से ज़्यादा फीचर मिलेंगे | जी आप मुझे फिर ग़लत समझ रहे हैं, मैं यहाँ हाइक की मार्केटिंग नहीं कर रहा हूँ | मैं केवल यह चाहता हूँ की हमारे देश का पैसा देश में रहे, देश के बाहर भी नहीं जाये और जनता के सभी काम भी सुचारु रूप से चलते रहे |

हाइक मैसेंजर इन्टरनेट के द्वारा एक स्मार्ट फोनों पर चलने वाली एक तत्क्षण मेसेजिंग सेवा है। इसके उपयोगकर्ता एक-दूसरे को टेक्स्ट संदेश के अलावा ऑडियो, छवि, फाइल, वॉइस संदेश, वीडियो तथा अपनी स्थिति भेज सकते है। हाइक मैसेंजर की स्थापना भारती इंटरप्राजेस के केविन भारती मित्तल ने 12 दिसम्बर 2012 को की थी।

हाइक मैसेंजर भारत का पहला स्वदेशी इंस्टेंट मैसेंजर है जो धीमे-धीमे काफी चर्चित हो रहा है। सबसे अच्छी बात है कि 100 मीटर के दायरे में आने वाली डिवाइस से आप बिना डाटा खर्च किए ही चैट, तस्वीरें या मल्टीमीडिया फाइल शेयर कर सकते हैं। इसमें एक डायरेक्ट पासवर्ड है। उसके कोई आपकी चैट नहीं देख सकता है। यही नहीं, 5000 से ज़्यादा फ्री स्टिकर आपकी चैट एक्सपीरियंस को और शानदार बनाते हैं। यह स्टिकर 30 से ज़्यादा भाषओं में उपलब्ध है। व्हाट्सऐप में यह फीचर आज शुरु हुआ है पर हाइक में डॉक्युमेंट शेयर करने के ऑप्शन शुरुआत से ही उपलब्ध है। इसमें ग्रुप चैट भी है। इसके अलावा, इसमें कॉल, ग्रुप कॉल आदि भी है। और अब लेटेस्ट अपडेट के बाद इसमें न्यूज फीचर भी दिया गया है। यानी अब लेटेस्ट न्यूज पढ़ने के लिए आपको किसी साइट पर जाने की ज़रूरत नहीं है। इसके द्वारा शेयर कि गई तस्वीर की क्वालिटी कम नहीं होती है।

जानकारी के मुताबिक इसने 2016 तक में ही 10 करोड़  यूजर्स का आंकड़ा छू लिया था ।

कभी आपने सोचा कि यदि व्हाट्सअप भारत में पैसा लेना शुरू कर दे तो भारत से कितना पैसा बाहर जायेगा। अगर नहीं तो-तो प्लीज ज़रा विचार कीजिए | इस अगस्त के महीने में हम भारतीय देश—भक्त हो जातें हैं।

तो आपसे गुजारिश है कि जंहा तक संभव हो, देश का पैसा बाहर न जा पाएं। अपनी कुछ देश भक्ति इस प्रकार दिखाए जिसमे जज्बातों के साथ देश के लिए जो भी आपसे बन सकें देश के हित में ज़रूर करें। जब भी व्हाट्सअप पैसा मांगे आप भारतीय मोबाइल संदेश सेवा हाइक को अपना  सकतें है ।

8 thoughts on “हाइक – भारतीय मैसेंजर सेवा

  1. I discovered your blog site on google and test a number of of your early posts. Continue to keep up the very good operate. I just additional up your RSS feed to my MSN Information Reader. Searching for ahead to reading extra from you later on!?

  2. Can I just say what a reduction to find someone who actually knows what they’re talking about on the internet. You undoubtedly know easy methods to carry a problem to gentle and make it important. More people have to learn this and understand this aspect of the story. I cant imagine you’re no more common because you positively have the gift.

  3. should verify with you here. Which is not one thing I often do! I enjoy studying a publish that may make folks think. Also, thanks for allowing me to remark!

  4. Thanks so much for giving everyone an exceptionally wonderful opportunity to check tips from this web site. It really is so sweet and stuffed with amusement for me personally and my office colleagues to visit your web site no less than three times in 7 days to study the newest guides you will have.

  5. Spot on with this write-up, I truly suppose this web site needs way more consideration. All probability be again to read far more, thanks for that info.

  6. Sir
    mene 3 din pahle 2 friends ko invite kiya tha or unhone hike ko join bhi kr liya, pr join pr jo earn hoti h vo nhi hui h.
    ‘ region kya h ‘
    ” pleze reply”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Loading...