Home News पहली बार किसी भारतीय प्रधानमंत्री की इसराइल यात्रा

पहली बार किसी भारतीय प्रधानमंत्री की इसराइल यात्रा

written by Atul Mahajan July 6, 2017

भारत इसराइल राजनयिक सम्बन्ध के  25 साल के पूर्ण होने पर प्रधान मंत्री   मोदी जी  की चार जुलाई से शुरू हो चुकी   तीन दिवसीय यात्रा दोनों देशों के बीच राजनयिक संबंधों को और  मजबूती प्रदान करेगी |  जंहा  इस्राइल कुछ  बाते अपने फायदे की चाहेगा वंही  भारत भी कुछ अपना फायदा चाहेगा |

स्थानीय बिजनेस दैनिक द मार्कर में इसके हिब्रू संस्करण में प्रकाशित एक लेख में भारत -इस्राइल संबंधों पर चर्चा करते लिखा गया है कि इस्राइलियों ने अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप की यहूदी राष्ट्र की यात्रा से काफी उम्मीदें लगा रखी थीं लेकिन उन्होंने बहुत अधिक कुछ नहीं किया जबकि मोदी 1.25    अरब आबादी के नेता हैं और उनकी व्यापक लोकप्रियता है। वह विश्व की तेजी से बढ़ती अर्थव्यवस्थाओं में से एक का प्रतिनिधित्व करते हैं और वो काफी तव्वजो पाने के हकदार हैं ।

मोदी की यह यात्रा किसी 70 वर्ष में किसी  भारतीय प्रधानमंत्री की पहली इजरायल यात्रा होगी।

नेतन्याहू मोदी की अगवानी के लिए चार जुलाई को अपनी प्रोटोकॉल टीम के साथ बेन-गुरियोन हवाई अड्डे पर मौजूद थे  जहां एक समारोह के दौरान दोनों देशों के राष्ट्रगान बजाए गए । भारतीय मूल की इसराइली गायिका लिओरा इत्जाक ने  दोनों देशों के राष्ट्रगान  को गाया। लिओरा ने किशोरावस्था में मुंबई तथा पुणे में भारतीय शास्त्रीय संगीत सीखा था और उन्होंने बॉलीवुड फिल्मों में भी गाने गाए हैं।

इन सबके अलावा नेतन्याहू उस समय भी मोदी के साथ  ही थे जब वह पांच जुलाई की शाम को तेल अवीव में भारतीय समुदाय को सबोधित किया  । पिछले कुछ दशकों में संभवत: इस्राइली प्रधानमंत्री ने किसी अन्य विदेशी नेता का ऐसा शानदार स्वागत नहीं किया जितनी गर्म जोशी के साथ भारतीय प्रधानमंत्री का किया । इजरायली मीडिया में नेतन्याहू और मोदी के बीच निजी तालमेल को लेकर खासी चर्चा की गयी है  l

पीएम नरेंद्र मोदी के ऐतिहासिक इस्राइल दौरे के दूसरे दिन दोनों देशों के बीच कई अहम समझौते हुए। भारत और इस्राइल के बीच कृषि, साइंस ऐंड टेक्नॉलजी, स्पेस और वॉटर मैनेजमेंट जैसे अहम क्षेत्रों में कुल  7 समझौते हुए। नेतन्याहू और पीएम मोदी ने जॉइंट प्रेस कॉन्फ्रेंस को संबोधित करते हुए दोनों देशों की प्रगाढ़ता और दोस्ती का एक बार फिर पा किया। पीएम मोदी ने अपने संबोधन में नेतन्याहू और उनके परिवार को भारत आने का न्योता दिया, जिसे इस्राइली पीएम ने तत्काल मंजूर भी कर लिया। इस्राइल ने यूपी में गंगा की सफाई और वॉटर मैनेजमेंट के क्षेत्र में सहयोग देने को लेकर समझौता किया है। दोनों नेताओं ने आतंक के खिलाफ लड़ाई को एक साथ मिलकर लड़ने का फैसला किया है। पीएम मोदी की इस यात्रा में भारत और इस्राइल के बीच न केवल द्विपक्षीय संबंधों को लेकर समझौते हुए, बल्कि वैश्विक समस्याओं और जरूरतों पर भी बात की गई। इस्राइल ने भारत के साथ मिलकर थर्ड वर्ल्ड के देशों खासकर अफ्रीकी लोगों के लिए काम करने की इच्छा जताई।

इ स्राइल ने यूपी में गंगा नदी  की सफाई और उसका वॉटर मैनेजमेंट के क्षेत्र में सहयोग देने को लेकर समझौता किया है। दोनों नेताओं ने आतंक के खिलाफ लड़ाई को एक साथ मिलकर लड़ने का फैसला किया है। पीएम मोदी की इस यात्रा में भारत और इस्राइल के बीच न केवल द्विपक्षीय संबंधों को लेकर समझौते हुए, बल्कि वैश्विक समस्याओं और जरूरतों पर भी बात की गई। इस्राइल ने भारत के साथ मिलकर थर्ड वर्ल्ड के देशों खासकर अफ्रीकी लोगों के लिए भी कुछ  अच्छे  काम करने की इच्छा जताई।

मोदी और नेतन्याहू के बीच मुलाकात के साथ-साथ कुछ अहम समझौते भी हुए जिसमें दोनों देशों के बीच हुई डिफेंस डील से चीन और पाकिस्तान में जैसे खलबली मच गई। दरअसल, भारत इजरायल से  10  हेरोन टीपी ड्रोन खरीदने जा रहा है। यह ड्रोन हवा से जमीन पर मार करने वाली मिसाइल से लैस है। इसे किलर ड्रोन भी कहा जाता है। इसकी मारक क्षमता को देखते हुए इसे भारत के लिए अहम माना जा रहा है। भारत इस ड्रोन की मदद से न केवल पाक अधिकृत इलाकों में आतंकी कैम्पों को नेस्तनाबूद कर सकता है बल्कि वहां छिपे आतंकियों पर भारत से ही निशाना लगाया जा सकता है।

 

You may also like

Leave a Comment

Loading...