Home News
Category

News

“Wrap your mother with your love; it’s Mother’s Day”

Mother’s Day – A special day for each one of us, as its celebrated across the world. A relationship with mother is above all the known relationships on the earth. To accept the presence of all mothers around the globe, Mother’s Day is celebrated across more than 48 countries of the world.

From the time of child’s entrance in this world till it is carried by his death, many relationships enter in his life, some are just for while some are with us because of their selfishness. But the one that exist forever is the love and affection of a mother, called as a best trainer and a guide for every child. Mother’s day is a day to reciprocate such love and affection to your mother.

 Mother’s Day 2019 in India, the event will be celebrated on 12th May, Sunday. It falls annually on every second Saturday in the month of May.

Why to Celebrate Mother’s Day — Mother’s Day celebration was initiated by Greek and Romans. The ancient people of such Greek and Romans were highly dedicated towards their maternal goddesses. At that time, this celebration of mother’s  day was extended three days long, including lots of activities along with variety of games. Another history of mother’s day was generated in England by Christians, celebrating such occasion on 4th Sunday in order to respect Virgin Mary.

“On Mother’s Day give your mother the most special gift- your love!”

Through the celebration of mother’s day spend time with your mother to rejoice and give respect by making her feel important in your Life……………..

May 10, 2019 0 comment
0 Facebook Twitter Google + Pinterest

अमेरिकी सुपरहीरो की हिट फ़िल्म है, जो मार्वेल कॉमिक्स की सुपरहीरो टीम, अवेंजर्स पर आधारित है। इसका निर्माण मार्वल स्टूडियो ने किया है, इस मूवी की कहानी क्रिस्टोफर मार्कस और स्टीफन मैकफ़ेली ने लिखी है, और यह फिल्म एंथनी तथा जो रूसो द्वारा निर्देशित की गई है।

इस मूवी के कलाकार इस प्रकार है :-

रॉबर्ट डॉनी जुनियर – टोनी स्टार्क/आयरन मैन
एक स्वयं घोषित विद्वान, रइस, रोमियो और इंजिनियर जिसने खुद एक यांत्रिक सूट बनाया है। डॉनी को अपनी चार फ़िल्मों के समझौते के चलते इस फ़िल्म में लिया गया था जिनमे आयरन मैन २ और द अवेंजर्स शामिल है।
क्रिस इवांस – स्टीव रॉजर्स/कैप्टन अमेरिका
एक द्वितीय विश्वयुद्ध का सेनानी जिसे मानवता की शारीरिक चोटी पर प्रयोगात्मक द्रव्य से पहुँचाया गया था। कैप्टन अमेरिका और टोनी स्टार्क में लगातार मतभेद उत्पन्न होते रहते हैं क्योंकि दोनों ही अलग-अलग काल के है।
मार्क रफ़्लो – डॉ॰ ब्रुस बैनर/हल्क
एक विद्वान वैज्ञानिक जो गामा किरणों के प्रभाव में आने के चलते गुस्सा होने पर एक दानव में बदल जाता है। हल्क का अभिनय करने के लिए अवतार में उपयोग की गई तकनीक का प्रयोग किया गया है। लोउ फेरिग्नो ने हल्क को आवाज़ दी है।
क्रिस हैमस्वर्थ – थॉर
नॉर्स मृथक में वर्णित बिजली का देवता। अपने इस पात्र के लिए क्रिस हेम्स्वर्थ ने वज़न व शारीरक बल बढ़ाया था।
स्कार्लेट जोहानसन – नताशा रोमानोफ़/ब्लैक विडो
जेरेमी रेनर – क्लिंट बर्टन/हॉकाआय
सैम्युअल एल. जैक्सन – निक फ्यूरी
टॉम हिडल्स्टन – लोकी
कोबी स्मल्डर्स – मारिया हिल
स्टेलान स्कार्सगार्ड – डॉ॰ एरिक सेल्विग

April 25, 2019 0 comment
1 Facebook Twitter Google + Pinterest
NPA

Before getting into the endeavor, it is better that we know what a Non-Performing Asset (NPA) is. A classification of loans and advances whose interest and/or installment of Bond finance principal remains ‘Past due’ for a specified period of time. A loan is labeled as a Non-Performing Asset when payments have not been made after a standard period of 90 days, but this elapsed time can be shorter or longer as well.

Carrying Non-Performing Assets put a heavy load on the lender since it hinders their primary course of action. Like lessening of earnings and budgets; due to heavy NPA the banks will not be able to provide subsequent loans, and the debts cancel the total earnings at the end of a financial year.

According to the latest calculations, fraud cases under IBC (Insolvency and Bankruptcy Code) cross Rs.40,000 crore, to put a check on this, the Minister of Finance and Corporate Affairs of India, Mr. Arun Jaitley said that state-run banks will be getting Rs. 2 lakh crore by the end of this year through the recovery of thousands of NPA.

Minister further added that “a large number of NPAs will be coming home……debtors are scared to be facing IBC”

It is mention-able that IBC was passed by Lok Sabha in 2016, to put a check on Insolvency and Bankruptcy.

The government has asked banks to get all their non-core assets to pay their debts by December 2018, due to which the banks had to shut down 41 overseas branches.

Punjab National Bank which was defrauded by their own employee Nirav Modi recently has put around 24 NPA on sale to recover Rs. 1320 Crore, SBI chief Mr. Khara stated that the bank has already started to review sectors of exposure and that the NPA trend is decreasing.

As a rehabilitation towards these huge NPA debts government has decided to supply around Rs. 13,600 crores in the public sector banks and Rs. 2,350 crore in Central Bank of India.

October 3, 2018 0 comment
1 Facebook Twitter Google + Pinterest

India is a country with an enormous culture and diversity. In this diverse culture of India, the Bohras hold a very distinct place but are often counted as a part of the entire Muslim community in terms of their practices and beliefs, however, The Bohra Samaj is a branch of Shia Ismaili Muslims, who are very exclusive and distinct in their beliefs and practices.

Like many other communities who came to India years ago and stayed here ever since Bohras also are not an Indigenous species of the Indian subcontinent. According to the historians, Bohras first came to India from middle-eastern countries in the 11th century BC, and through various missionaries and businessmen they established their roots and have been here ever since.

The word ‘Bohra’ comes from a Gujarati word ‘Vahorau’, meaning businessmen.

According to the popular belief, they don’t go to Masjids (Mosques) but Mazars only, which is the biggest difference between other Muslim castes and Bohras.

As the Indian society and the number of Bohras in India increased the leaders shifted their capital from Yemen to Siddhpur in India in the year 1539. There was a clash between two then major leaders of Bohras, namely, Dawood-Bin-Qutub-Shah and Sulaiman, as a result of which Bohra community further divided into two groups, Dawoodi Bohras and Sulaimani Bohras. However, they don’t have major differences in their practices.

Bohra community is considered to be one of the wealthiest, polite, peace-loving and educated community of India, they truly believe in loving and sharing, and better done than said they have they have huge kitchens all over the world called as ‘Common Kitchens’ that supplies food to the poor who can not afford it, Bohra Community has also started a scheme under which they provide loans to the poor so that they can get stable and further help others.

Many Hindu rituals can also be seen as a part of their culture, since we embrace every religion in it’s truest form, all of us together make India what it is.

September 24, 2018 0 comment
1 Facebook Twitter Google + Pinterest

Elections to be held in the year 2019 which will constitute the Legislative Assembly of India will have a tough battle between two giants, the current Prime Minister of India Narendra Modi and the Congress’ candidate Rahul Gandhi As Mr. Narendra Modi moves toward the end of his tenure as the head of the parliament, people are speculating whether Narendra Modi is going to reclaim his throne or the candidate from Congress Party, Mr. Rahul Gandhi will have a taste of victory for the first time.

Our Prime Minister who was elected with a majority of 282 seats has taken pretty bold actions like changing the currency over-night, increasing petrol prices, LPG-Subsidy, and many more such actions.

Many political analysts have stated that the performance of the BJP government led by Mr. Narendra Modi has been unsatisfactory while many welcomed these changes with open arms, including the common men.

Rahul Gandhi, from his seat in Amethi, Uttar Pradesh will represent the Indian National Congress party in the elections to be held in 2019 has claimed that this would definitely be his year and Narendra Modi has thrashed this statement completely, and recently his BJP president, Amit Shah has said that “BJP will rule in India for the next 50 years”.

During this word-war between both the leading parties, Maharashtra chief minister Devendra Fadnavis in April said during one of his speeches, “The people know the contradictions of the opposition. They want to be in the power but they have don’t have a leader who can beat the PM Modi”  But the country has seen many examples in the past where the election results came out to be a surprise.

It is tough to conclude whether Congress will change their candidate or BJP will rise to people’s expectations and will form the majority in 2019 elections.

Stay updated, Be aware and Definitely vote for the better.

September 20, 2018 0 comment
1 Facebook Twitter Google + Pinterest

हिन्दू धर्म में चार धाम का बहुत ही महत्त्व है। उन्ही  चार धामों में से एक है पुरी का जगन्नाथ मंदिर है, जो भगवान जगन्नाथ (Jagannath Temple) का स्वरुप है। यह भारत के उड़ीसा राज्य के शहर पुरी में स्थित है। जगन्नाथ शब्द का अर्थ विश्व के स्वामी होता है। इनकी नगरी ही जगन्नाथपुरी कहलाती है। यह मंदिर वैष्णव सम्प्रदाय का मंदिर कहा जाता है, जो भगवान विष्णु के अवतार श्री कृष्ण का एक रूप है।

मंदिर के संदर्भ से जुड़ी परंपरागत किवदंती के अनुसार, भगवान जगन्नाथ की इंद्रनील या नीलमणि से निर्मित मूल मूर्ति, एक अगरु वृक्ष के नीचे मिली थी। यह इतनी चकचौंध करने वाली थी कि धर्म ने इसे जमीं के नीचे छुपाना चाहा। एक राजा इंद्रद्युम्न को स्वप्न में यही मूर्ति दिखाई दी थी। तब उसने कड़ी तपस्या की और तब भगवान विष्णु ने उसे बताया कि वह पुरी के समुद्र तट पर जाये और वंहा उसे एक लकड़ी का लठ्ठा मिलेगा। उसी लकड़ी से वह भगवान की एक मूर्ति का निर्माण कराये। उस राजा ने ऐसा ही किया और उसे उसी स्थान पर लकड़ी का लठ्ठा मिल भी गया। उसके बाद देव अभियंता विश्वकर्मा बढ़ई कारीगर और मूर्तिकार के रूप में उसके सामने उपस्थित हुए | किंतु उन्होंने यह शर्त रखी कि वे एक माह में यह मूर्ति तैयार कर देंगे, परन्तु जब तक मूर्ति नहीं बन जाती तब तक वह एक कमरे में बंद रहेंगे और राजा या कोई भी उस कमरे के अंदर नहीं आये। तीसवें दिन जब कई दिनों तक कोई भी आवाज नहीं आयी, तो उत्सुकता वश राजा ने उस कमरे में झांका और वह वृद्ध कारीगर द्वार खोलकर बाहर आ गया और राजा से स्पष्ट रूप से कहा कि मूर्तियाँ अभी अपूर्ण हैं, उनके हाथ अभी नहीं बने थे। राजा के अफसोस करने पर, मूर्तिकार ने बताया कि यह सब भगवन की इच्छा से हुआ है और यह मूर्तियाँ ऐसे ही स्थापित होकर पूजी जायेंगीं। तब वही तीनों जगन्नाथ, बलभद्र और सुभद्रा की मूर्तियाँ मंदिर में स्थापित की गयीं।

हिन्दू पंचांग के अनुसार यहाँ हर आषाढ़ महीने में विशाल रथयात्रा का भव्य आयोजन होता है। इस रथ की रस्सियों खींचने और छूने मात्र के लिए पूरी दुनिया से श्रद्धालु यहाँ आते हैं, क्योंकि भगवान जगन्नाथ के भक्तों की मान्यता है कि इससे मोक्ष की प्राप्ति होती है। ये तो हैं जगन्नाथ पूरी मंदिर (Jagannath Temple) से जुडी हुई मान्यताएँ, जिसे आप मानें या न मानें यह आपकी आस्था और विश्वास पर निर्भर करता है।

क्या आप जानते है ? यह मंदिर आस्था के साथ-साथ अपने इन रहस्यों के लिए भी प्रसिद्ध है। जगन्नाथ मंदिर के ऊपर फहराता हुआ ध्वज हमेशा हवा के विपरीत दिशा लहराता है। पुरी के हर मंदिर के शिखर पर सुदर्शन चक्र ही मिलता है। यह परंपरा का रहस्य किसी को नहीं पता है।  मान्यता है कि जगन्नाथ मंदिर (Jagannath Temple) के ऊपर कोई चि़ड़िया भी नहीं उड़ती है। जगन्नाथ मंदिर के ऊपर से हवाई जहाज या हेलिकॉप्टर उड़ाना निषिद्ध है।

जगन्नाथ मंदिर के शिखर की छाया सदैव अदृश्य रहती है।

कहते हैं जगन्नाथ मंदिर की रसोई घर में कभी भोजन की कमी नहीं होती है, चाहे कितने ही श्रद्धालु यहाँ भोजन करें।

मंदिर के सिंहद्वार से पहला कदम अंदर रखने पर ही आप समुद्र की लहरों से आने वाली आवाज को नहीं सुन सकते। आश्चर्य में डाल देने वाली बात यह है कि जैसे ही आप मंदिर से एक कदम बाहर रखेंगे, वैसे ही समुद्र की आवाज सुनाई देने लगती है। यह अनुभव शाम के समय और भी अलौकि‍क लगता है।

June 8, 2018 0 comment
0 Facebook Twitter Google + Pinterest

नए साल ( happy new year ) को सेलिब्रेट करते समय बहुत से लोग अपने आस-पास के लोगों के साथ पार्टी करते हुए करीब आते हैं। दूसरे शब्दों में कहें तो नई जगह पर जान पहचान बढ़ाने के लिए यह अच्छा अवसर प्रदान करता है।

हर बार नया साल नई खुशियां, नई उमंग, नई उम्मीदें और जश्न मनाने के तमाम नए बहाने लेकर आता है। अब सवाल ये है कि हम आखिर ये जश्न मनाते क्यों हैं तो आपको बता दें कि खुश होने के लिए किसी वजह की ज़रूरत नहीं होती। या यूं कहे सकते हैं कि बस ये खुशी जाहिर करने के लिए एक अच्छा दिन होता है। हम और आप नए साल को वेलकम कर रहे होते हैं, ताकि नई उमंगों और सपनों के साथ नई शुरुआत कर सकें। इस दिन आप बेझिझक अपने पुराने दोस्तों, रिश्तेदारों और अपने रिलेशन पर जमी धूल साफ कर सकते हैं जिनसे आप ने लंबे समय से बात ना की हो और हां अगर आप कोई तोहफा भी देना चाहें तो उन्हें कोई परेशानी नहीं होगी।

रही इतिहास की बात तो माना जाता है कि नए साल का उत्सव ( happy new year )

4000 साल से भी पहले बेबीलोन में मनाया जाता था। पर तब यह पर्व 21 मार्च को मनाया जाता था जो कि वसंत के आने की तिथि भी मानी जाती थी। प्राचीन रोम में भी नव वर्षोत्सव तभी मनाया जाता था। रोम के बादशाह जूलियस सीजर ने ईसा पूर्व 45 वें वर्ष में जब जूलियन कैलेंडर की स्थापना की, तब विश्व में पहली बार 1 जनवरी को नए साल का उत्सव मनाया गया। नया साल ग्रेगोरियन कैलेंडर के अनुसार 1 जनवरी को होता है। अलग-अलग संस्कृतियों के अपने कैलेंडर और अपने नव वर्ष होते हैं। दुनिया के देश अलग-अलग समय पर नया साल मनाते हैं

नए साल ( happy new year ) को सेलिब्रेट करते समय बहुत से लोग अपने आस-पास के लोगों के साथ पार्टी करते हुए करीब आते हैं। दूसरे शब्दों में कहें तो जान पहचान बढ़ाने के लिए यह अच्छा अवसर प्रदान करता है। इस मौके पर जान पहचान वालों के अलावा बहुत से अनजान लोग भी आपको बधाई देते हें। हर आने वाला साल अपने साथ ढेरों उतार-चढ़ाव लेकर आता है। जिनकी मदद से आपको एक बेहतर इंसान बनने में मदद मिलती है। वैसे हर साल से लोगों को उम्मीद होती है। ऐसे में हम आपको बता दें कि आने वाला साल नौकरीपेशा लोगों के लिए खास हो सकता है। नए साल में कई नौकरियों का सर्जन होता है तो कई कंपनियां अपनी नीतियों में बदलाव करती है। अगर जो लोग नौकरी खोज रहे हैं या इन फील्ड में नौकरी कर रहे हैं तो उनके लिए भी यह अच्छा वक्त है, क्योंकि बाज़ार में कई नौकरियां आने वाली है और जो लोग नौकरी कर रहे हैं, उनकी ग्रोथ होने वाली है।

तो आइये हमारे साथ आप भी  एक  नए वर्ष के नए  सूर्य  का स्वागत  करें  .

आप सभी को नए वर्ष की शुभ कामनांए ।

नए साल का उत्सव    happy new year     हैप्पी न्यू ईयर 2018

December 31, 2017 0 comment
0 Facebook Twitter Google + Pinterest
Uttar Pradesh Nagar Nigam Election

उत्तर प्रदेश निकाय चुनाव (Uttar Pradesh Nagar Nigam Election ) नतीजों ने एक बार फिर से साबित कर दिया है कि लोगों का भरोसा बीजेपी पर से हटा नहीं है। 16 में से अधिकतर नगर निगमों पर भारतीय जनता पार्टी ने कब्जा किया है। जीत से उत्साहित यूपी सीएम योगी आदित्यनाथ ने कहा कि यूपी के चुनाव सबकी आंखों को खोलने वाला है, जो लोग गुजरात के संदर्भ में बात कर रहे थे उनका खाता भी नहीं खुला है और अमेठी में भी सूपड़ा साफ हुआ है तो वहीं बीजेपी राष्टीय अध्यक्ष अमित शाह ने भी जीत की बधाई देते हुए कहा है कि UP की जनता ने किया कांग्रेस का सूपड़ा साफ कर दिया है अमेठी-रायबरेली ने भी उसे नकार दिया है।

उत्तर प्रदेश निकाय चुनाव (Uttar Pradesh Nagar Nigam Election) में बीजेपी की इस जीत पर यूपी के डिप्टी सीएम दिनेश शर्मा ने कहा है कि विपक्षी पार्टियां एक साथ मिलकर भी हमारा मुकाबला नहीं कर पाई हैं, उन्होंने कहा है कि योगी सरकार ने प्रदेश में दिन रात काम किया है, इसी का नतीजा है कि नगर निगम चुनाव में भी कमल खिला है।

उत्तर प्रदेश निकाय चुनाव (Uttar Pradesh Nagar Nigam Election) के शुरुआती नतीजों और रुझानों में बीजेपी भारी बढ़त बनाए हुए है। कुछ सीटों पर बसपा कड़ी टक्कर दे रही थी मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने निकाय चुनावों के लिए प्रचार की शुरुआत अयोध्या से ही की थी। अयोध्या में बीजेपी की जीत हुई है, बीजेपी प्रत्याशी ने ऋषिकेश उपाध्याय ने भारी मतों से जीत दर्ज की है उन्होंने समाजवादी पार्टी की प्रत्याशी किन्नर गुलशन बिन्दू को हराकर जीत दर्ज की हैं। सीएम योगी के गढ़ गोरखपुर में बीजेपी के प्रत्याशी सीताराम जायसवाल ने अपने प्रतिद्वंद्वी सपा के राहुल गुप्ता को हराकर जीत दर्ज की, चुनाव जीतने के बाद सीताराम जायसवाल ने कहा कि शहर के पुराने स्वरूप को बनाए रखते हुए नागरिकों को विश्वस्तरीय आधुनिकतम बुनियादी सुविधाएं प्रदान की जाएगी।

मथुरा में बीजेपी उम्‍मीदवार मीरा अग्रवाल ड्रॉ से जीतीं, कांग्रेस प्रत्‍याशी से हुआ था टाई ।

उत्तर प्रदेश के 16 नगर निगम, 198 नगरपालिका और 438 नगर पंचायतों के चुनाव के नतीजे शुक्रवार को आए. 16 नगर निगमों में से 14 पर बीजेपी जीती। 2 पर बीएसपी को जीत हासिल हुई. नगरपालिका और नगर पंचायतों में भी बीजेपी आगे रही। इन नतीजों के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने योगी सरकार, बीजेपी वर्कर्स और वोटर्स को बधाई दी। उन्होंने कहा-ये विकास की जीत है। सीएम योगी आदित्यनाथ ने जीत के बाद कांग्रेस पर तंज कसा। उन्होंने कहा, “ये चुनाव सभी की आंखें खोलने वाला रहा और जो लोग इसे गुजरात से जोड़कर देखते थे, उनकी भी आंखें खोलने वाला रहा। गुजरात इलेक्शन में जीत का ख्वाब देख रही कांग्रेस यूपी में चित हो गई ।

उत्तर प्रदेश निकाय चुनाव

पार्टी      2017 के नतीजे  2012 के नतीजे   नफा/नुकसान
बीजेपी 14 10 +4
बीएसपी 2 0 +2
एसपी 0 0 -4
कांग्रेस 0 0 0
December 2, 2017 0 comment
0 Facebook Twitter Google + Pinterest
Black money

नोटबंदी और जीएसटी के बाद मोदी सरकार एक और बड़ा कदम उठाने की तैयारी कर रही है। बताया जा रहा है कि यह अभियान बेनामी संपत्ति (Black money)के खिलाफ होगा।

सुत्रों के अनुसार सरकार बेनामी संपत्ति (Black money) के खिलाफ जल्द ही बड़ा अभियान चला सकती है। आने वाले दिनों में मालिकाना हक के कानूनी सबूत न मिलने पर बड़ी संख्या में सरकार बेनामी संपत्तियों को कब्जे में ले सकती है।

आमतौर पर ऐसे लोग बेनामी संपत्त‍ि रखते हैं जिनकी आमदनी का मौजूदा स्रोत स्वामित्व वाली संपत्त‍ि खरीदने के लिहाज से अपर्याप्त होता है। यह बहनों, भाइयों या रिश्तेदारों के साथ ज्वाइंट प्रॉपर्टी भी हो सकती है जिसकी रकम का भुगतान आय के घोषित स्रोतों से किया जाता है।

बेनामी संपत्ति वह है जिसकी कीमत किसी और ने चुकाई हो किन्तु नाम किसी दूसरे व्यक्ति का हो। यह संपत्त‍ि पत्नी, बच्चों या किसी रिश्तेदार के नाम पर खरीदी गई होती है। जिसके नाम पर ऐसी संपत्त‍ि खरीदी गई होती है, उसे ‘बेनामदार’ कहा जाता है। बेनामी संपत्ति चल या अचल संपत्त‍ि या वित्तीय दस्तावेजों के तौर पर हो सकती है। कुछ लोग अपने काले धन को ऐसी संपत्ति में निवेश करते हैं जो उनके खुद के नाम पर ना होकर किसी और के नाम होती है। ऐसे लोग संपत्ति अपने नौकर, पत्नी-बच्चों, मित्रो या परिवार के अन्य सदस्यों के नाम से खरीदते लेते हैं।

बेईमानी और भ्रष्टाचार के काले कारोबार में लिप्त लोगों के खिलाफ कठोर कदम उठाना जारी रखने का संकल्प व्यक्त करते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि सरकार ने बेनामी संपत्ति कानून को धारदार बनाया है और आने वाले दिनों में यह कानून अपना काम करेगा ।

Black money

पीएम ने पूर्ववर्ती कांग्रेस नीत यूपीए सरकार पर बेनामी संपत्ति (Black money) से जुड़े कानून को कई दशकों तक ठंडे बस्ते में डालने का आरोप लगाया। आकाशवाणी पर प्रसारित ‘मन की बात’ कार्यक्रम में प्रधानमंत्री ने कहा, ‘ मैंने पहले ही दिन कहा था, 8 तारीख को (नोटबंदी की घोषणा के दिन) कहा था, ये लड़ाई असामान्य है। 70 साल से बेईमानी और भ्रष्टाचार के काले कारोबार में कैसी शक्तियां जुड़ी हुई हैं? उनकी ताकत कितनी है? ऐसे लोगों से मैंने जब मुकाबला करना ठान लिया है तो वे भी तो सरकार को पराजित करने के लिए रोज नए तरीके अपनाते हैं।

विपक्ष की आलोचना को दरिकनार करते हुए पीएम मोदी की अगुआई में केंद्र सरकार ने नोटबंदी के एक साल पूरा होने पर 8 नवंबर को ‘ऐंटी ब्लैक मनी डे’ मनाया था। विपक्ष ने इस दिन पूरे देश में विरोध दिवस बनाने का ऐलान किया था।

सूत्रों की अगर माने पीएम मोदी ने नोटबंदी के बाद अपना अगला टारगेट बेनामी संपत्ति (Black money) को बनाया है और इसके खिलाफ बड़े पैमाने पर पूरे देश में अभियान चलाया जाएगा। दरअसल नोटबंदी के एक साल बाद सरकार करप्शन के खिलाफ जंग को जारी रखने का मजबूत संकेत देना चाहती है।

सूत्रों के अनुसार प्रस्तावित अभियान में अगर मालिकाना हक के कानूनी सबूत नहीं मिले तो ऐसी बेनामी संपत्तियों को सरकार अपने कब्जे में ले सकती है। और इन बेनामी संपत्तियों (Black money) को भी गरीबों के लिए किसी योजना से जोड़ा जाएगा जैसे ब्लैक मनी के लिए दोबारा लाई डिस्कलोजर स्कीम के तहत राशि प्रधानमंत्री गरीब कल्याण योजना में डाली गई थी।

November 15, 2017 0 comment
0 Facebook Twitter Google + Pinterest

आपके लिए WhatsApp ने लंबे इंतजार के बाद आखिरकार सेंड मैसेज को डिलीट करने का फीचर लॉन्च कर ही दिया है।

यानी अब कोइ भी यूजर गलती से कोई मैसेज को सेंड कर देता है तब वह उसे डिलीट कर सकता है। मैसेज जिस यूजर को सेंड किया गया है उसके फोन से भी डिलीट हो जाएगा।

इस फीचर का सबसे बड़ा फायदा ये है कि अगर कोई मैसेज गलती से किसी दूसरे ग्रुप में चला गया है तब आप उसे ग्रुप में जुड़े सभी मेंबर्स के वॉट्सऐप से भी डिलीट कर सकते हैं।

हालांकि, इसकी एक छोटी से कंडीशन ये है कि मैसेज सिर्फ़ उन यूजर के वॉट्सऐप से डिलीट होगा जो लेटेस्ट वर्जन यूज कर रहे हैं।

यूजर्स इस फीचर को वॉट्सएप का अब तक का सबसे बेस्ट फीचर मान रहे हैं। आप अगर कोई मैसेज भेजन के बाद डिलीट करना चाहते हैं, तो आपके सामने तीन ऑप्शन आएंगे, जिनमें पहला होगा डिलीट फॉर मी, दूसरा ऑप्शन होगा कैंसिल और तीसरा ऑप्शन होगा, डिलीट फॉर एवरीवन।

डिलीट फॉर एवरीवन पर क्लिक करने पर ये मैसेज ग्रुप में से भी सभी यूजर्स के लिए हमेशा के लिए डिलीट हो जाएगा।

चैट में मैसेज पाने वाले को “This message was deleted” लिखा दिखेगा। इसी तरह अगर आपको किसी एक चैट में “This message was deleted” लिखा दिखता है, तो इसका मतलब है कि मैसेज को डिलीट कर दिया गया है।

Whatsapp ने जानकारी दी है कि यूज़र किसी मैसेज को भेजने के 7 मिनट बाद तक ही डिलीट कर सकते हैं। यानी अगर आप 7 मिनट से ज़्यादा लेते हैं, तो ये मैसेज रिसीवर या ग्रुप में मौजूद सभी यूजर्स के लिए नहीं हटाया जा सकेगा।

अगर आपको ये फीचर अपने फोन में नहीं दिख रहा है तो प्ले स्टोर में जाएं और वहाँ अपने Whatsapp को अपडेट करें। दिसम्बर में आपको मिलेगा Whatsapp पर पेमेंट फीचर, कर सकेंगे कहीं भी भुगतान।

November 4, 2017 0 comment
1 Facebook Twitter Google + Pinterest
Newer Posts
Loading...