Home Life Style
Category

Life Style

Paryushan Parv is one of the most important and sacred festivals of Jainism. This festival consists of 8 days and the last day is the most auspicious day for the Jain community. Jain community celebrates Paryushan in the two traditions and it consists of- Shwetambar and Digambar. For the Shwetambar Jain, this festival remains for mainly 8 days and for the Digambar Jain, this festival remains for 8-10 days. During this festival of Jainism, people focus
on the two major things- Introspection and Forgiveness. This is believed that Paryushan is the festival to purify the inner soul and do not hurt others by any action or words.

This the festival of fasting but fasting is not possible for everyone so it also includes to analyse oneself for their deeds and learn the guidance of the Jain Tirthankaras known as God.

This festival is an opportunity for the Jain community to look at their previous sins, removing all the impurities from within such as- anger, pride and greed. In contrast to these sins, build the good virtues of humanity, kindness, non-violence, charitable, honesty and sacrifice.

Among the 8 days of the festival, last day is more important among all and that is known as “Samvatsari” a day of forgiveness to all the living beings. On this day, everyone meets with their friends, family to say them sorry for any wrong deeds they committed. Also, people seek forgiveness from the enemies too.

Moral of a PARYUSHAN FESTIVAL

This great remarkable festival of Jainism is to drop out all the negativity within you, drop out all the rubbish, senseless and lustful desires, remove jealously and ego in these precious days.

This festival is all about selflessness, god devotion, humanity and follows the right path of goodness. Live and just let live others with love.

And make a pray to god that GOD purify my soul and bless me with positive energy.

August 26, 2019 0 comment
0 Facebook Twitter Google + Pinterest

Yeas, you will be surprised! hearing how meditation helps to balance out your whole body system especially Brain. Meditation produces a good, healthy and positive vibes inner you. Meditation is the process of balancing and activating the body and brain. It allows your mind to focus effectively. Moreover, it helps to reduce your increased blood pressure.

In today’s fast-growing life, a human is a victim of the anxiety, anger, stress, chronic pains and mood swings so to control and resolves all these factors a meditation works a lot and has many good benefits to your whole body and mind.

The most precious heart, mind and body can be controlled and improved by adapting regular meditation in your life. In your daily routine, you should strictly do meditation for half an hour or just a few minutes. Meditation keeps you completely healthy, positive and it keeps you stay away from all the negativity. Though, meditation is the long term return to your life. Like- do meditation for a minute and get along the good return. How interesting it is.

Even though meditation is a scientifically validated and is universally applicable. Meditation plays an important role in your life and brings many good effects to your amazing lifestyle.Meditation improves your level of sleep, intelligence and concentration. And you can achieve anything that you want.

The most interesting thing you will be excited to know about meditation is- it brings you closer to the divine God.

Every human is himself an author of his disease and health. Means you are the only responsible for your bad health so by doing meditation you will find yourself that you have achieved good health. Meditation keeps your mind and body relax, peace and it awakens the great vibes within you.

Your body and mind are precious. Re-energies your life by a way of mediation and brings a smile and happiness to your life through meditation.

August 26, 2019 0 comment
0 Facebook Twitter Google + Pinterest

Janmashtami is completely associated with the lord Krishna. It is a festival of love and affection between a brother and sister. This festival is one of the popular ones and gains a lot of importance in Hinduism. On this day, birthday is celebrated of Lord Krishna throughout the world. Always the birthday of Lord Krishna comes in the month of SHRAWAN. This day is treated as a RAKSHABANDHAN too as Draupadi and Krishna was brother and sister and the bond between them was much tighter and then brother, sister bond came to existence.

This festival of Janmashtami brings joy, love and devotion between siblings. It is believed that- children make a prank of Lord Krishna and also the love bond of Radha and Krishna is famous.

Love and Interest of Lord Krishna

Sweet Lord Krishna has a love for the curd and butter. This both the things he often eats and enjoys. On the Janmashtami day, a special function is organised and any child or any elder one impersonated like a lord Krishna. A pot of clay
known as MATKI contained with butter and milk is hanged over the height of the building or a pyramid with a help of rope and then the young Govinda tries to reach near the pot to break and grab that.

Mathura is being the favourite place of Lord Krishna as he spent his childhood there and he took birth here. The world-famous Janmashtami is celebrated here with great devotion and love. On the day of Janmashtami, all the society
peoples come across the temple of Radha- Krishna and with a lot of chanting, people get assembled near the temple to celebrate the birthday of Lord Krishna. Young and children dressed up like a Krishna and Radha to play a role of the love affair of them. People play various games, dance and make fun.

Lord Krishna states that– spread the charm of humanity around you and live with love with everyone.

August 20, 2019 0 comment
1 Facebook Twitter Google + Pinterest

Yoga is an ancient Indian way of life. Through yoga, we can keep the body, mind and brain healthy. Doing yoga can get rid of many diseases. Yoga keeps the body powerful and it relieves stress from yoga. The body remains healthy and healthy. Yoga not only gives your body a rest, it also gives you peace of mind. Doing regular yoga keeps your mind happy and removes irritability.

Obesity is a major problem nowadays. Working in one place for hours, not exercising, which is causing obesity. There is a risk of many diseases like diabetes, high blood pressure, heart attack due to obesity. Apart from this, problems like obesity, headache, tension and osteoporosis also occur for a long time. Millions of people die every year from diseases leading to obesity worldwide. You can reduce obesity by doing regular yoga. Configuration yoga is considered to be very beneficial to reduce fat deposited on the stomach.

If your weight is too much and the belly has come out due to accumulation of fat or the whole body is fat, then you also have to take care of your diet and you can reduce your weight fast by using configuration yoga.
Yoga is very beneficial for you, because it helps to maintain the beauty, peace and balance. Yoga helps us to make our skin beautiful. It makes you healthy and stress-free. Prevention of premature aging can be prevented by yoga and exercise. Yoga is not only beneficial for your health, but daily yoga also keeps your skin tight and glows on the skin. Yoga enhances your blood circulation. It removes skin, fatigue and gives a kind of glow, which makes you look beautiful. Apart from this, it also removes acne.

CONCLUSIONS – Today’s fast pace There are many such moments in life that put a brake on our speed. There are many reasons around us which give rise to tension, fatigue and irritability, which makes our lives unsettled. In such a situation, yoga is a panacea medicine to keep life healthy and energetic, which keeps the mind cool and the body fit. The speed of life gets a musical momentum through yoga. The importance of yoga will increase in future. With compound actions, everything can be changed, which is given by nature.

August 13, 2019 0 comment
0 Facebook Twitter Google + Pinterest

“Wrap your mother with your love; it’s Mother’s Day”

Mother’s Day – A special day for each one of us, as its celebrated across the world. A relationship with mother is above all the known relationships on the earth. To accept the presence of all mothers around the globe, Mother’s Day is celebrated across more than 48 countries of the world.

From the time of child’s entrance in this world till it is carried by his death, many relationships enter in his life, some are just for while some are with us because of their selfishness. But the one that exist forever is the love and affection of a mother, called as a best trainer and a guide for every child. Mother’s day is a day to reciprocate such love and affection to your mother.

 Mother’s Day 2019 in India, the event will be celebrated on 12th May, Sunday. It falls annually on every second Saturday in the month of May.

Why to Celebrate Mother’s Day — Mother’s Day celebration was initiated by Greek and Romans. The ancient people of such Greek and Romans were highly dedicated towards their maternal goddesses. At that time, this celebration of mother’s  day was extended three days long, including lots of activities along with variety of games. Another history of mother’s day was generated in England by Christians, celebrating such occasion on 4th Sunday in order to respect Virgin Mary.

“On Mother’s Day give your mother the most special gift- your love!”

Through the celebration of mother’s day spend time with your mother to rejoice and give respect by making her feel important in your Life……………..

May 10, 2019 0 comment
1 Facebook Twitter Google + Pinterest
successful

हम सब अपनी ज़िन्दगी में कुछ न कुछ हासिल करना चाहते है। कोई Doctor बनना चाहता है कोई Actor, कोई Dancer बनना चाहता है, तो कोई engineer. सब का Goal एक ही है कि वह successful बनना चाहते है। कितनी सारे किताबे कितनी सारी बाते कही जाती है पर सफलता पाने के कई रस्ते है और इसीलिए यह सभी रास्ते देख कर हम बौखला जाते है। डर जाते है।

दुनिया में दो ही तरह के लोग है एक तो वह जो सफल है और दूसरे वह जो नहीं है जिनकी तादाद सफल लोगो से कंही ज़्यादा है इसका साफ मतलब है जो लोग हमारी तुलना में सफल है वह लोग कुछ तो अलग करते ही है जो असफल होने वाले लोग नहीं करते है और किसी भी व्यक्ति का व्यापार में सफल होने के पीछे एक कहावत है कि ” किसी व्यापार में सफल (Successful) होने के लिए कोई ऐसा तथ्य जानना होता है जो बाकि के लोग नहीं जानते है ऐसे ही सफल होने वाले लोगो के नेचर में भी कुछ खास बातें होती है जो उन्हें सफल बनाती है। लेकिन फिर भी कुछ बुनियादी चीज़े है जिनका ध्यान रखकर अगर हम ज़िन्दगी में आगे बढ़ते है तो काफी हद तक सफलता के करीब पहुँच सकते है क्यों न हम इस बारे में आगे बात करें।

आज हम आपको सफलता के कुछ सूत्र बताएँगे। आप किसी भी क्षेत्र में हो यह सूत्र आपको अपने लक्ष्य तक पहुंचने में-में हर संभव मदद करेंगे।

* भूतकाल चला गया है। वह जीवन में कभी दोबारा आपके जीवन में नहीं आयेगा। अपने भूतकाल के बारे में सोचकर चिंतित न रहे। उसे भूल जाए क्योंकि भविष्य कभी निश्चित नहीं होता। अपने भविष्य के बारे में ज़्यादा चिंतित न रहे। सिर्फ़ वर्तमान में जीते रहे।

* दूसरो की कमियों को ढूंडना बंद करे। अपने दिल पर हात रखे और अपनी कमियों के बारे में जाने। अपने दिल में आपको बहोत-सी नकारात्मकता और कमिया मिलेगी।

* दूसरो के लिए हमेशा अच्छा करे। आपसे जितनी बन सके उतनी सबकी सहायता करे। मतलबी न बने। अपने मतलब को किसी की सहायता करते समय भूल जाये। आपकी ये आदत आपको भविष्य में सहायक साबित होगी और आपका जीवन आनंद और ख़ुशी से भर जायेगा।

* सफलता पाने के लिए आपको कई चीज़ो का बलिदान करना पड़ता है। अगर आपको सफल (Successful) होना है तो यह बलिदान करने के लिए आपको हर पल तैयार रहना होगा। कुछ पाने के लिए कुछ खोना पड़ता है। अगर आपको अपने जीवन में कुछ बड़ा हासिल करना है तो अपने जीवन से आलस, नकारात्मक विचार, बुरी आदतें इन सभी को छोड़ने की तैयारी करनी होगी, तभी आप सफल हो सकते है।

* हमेशा समय के महत्त्व को समझे। ग़लत कामो में अपने कीमती समय को व्यर्थ न गवाये। आपके पास जितना भी समय बचा है, उसे अच्छे कामो में खर्च कीजिये और अच्छे लोगो के लिये खर्च कीजिये।

* कोई भी काम शुरू करने से पहले उसके परिणाम के बारे में ज़रूर सोच ले और उसी के अनुसार क्रिया करे। ख़ुशी और शांति पाने के लिये अपने दिमाग में हमेशा किये जा रहे काम के परिणाम को रखिये।

* कभी किसी को मायूस ना करे और सभी के लिये दयालु रहे। सभी की सहायता करे। इंसानों में ही भगवान् को देखने की कोशिश करे। अपने दिल से नफरत को निकाल दे, सभी के साथ अच्छा व्यवहार करे और धरती पर हर एक प्राणी से प्यार से रहे। आलोचनाओ से दूर ही रहे। कभी किसी का बुरा न चाहे। हमेशा अच्छे विचारो को ही दिमाग में आने दे और अपने जीवन में भगवान् की प्रस्तुति को जाने।

* बहाने बनाना बंद करे। अक्सर कहा जाता है कि सफल या successful लोग बहाने नहीं देते वह results देते है। इसीलिए situation कितनी भी कठिन क्यों न हो बहाने देने से अच्छा उसके solution पर focus करे। जिस दिन आपके बहाने कम होते जायेंगे उस दिन आप को results दिखना शुरू होगा।

* हमेशा नया सीखते रहे। आप अपने क्षेत्र में कितने भी बड़े क्यों न हो जाये हर पल कुछ नया सिखने की कोशिश करे। हर एक क्षेत्र में रोज़ कुछ नए आविष्कार होते रहते है जिसका आपको अंदाजा भी नहीं होता इसीलिए आपको खुद को updated रखने के लिए नए-नए लोगो से यह सारी चीज़े सीखनी होगी। सीखते रहना ही successful लोगो की निशानी है।

* ध्यान रखें की सफलता के मोती यूँ ही धुल में बिखरे हुए नहीं पड़े हैं। उन्हें पाने के लिए गहराई में उतरने की हिम्मत करनी होगी, बहुत ज़्यादा कठोर परिश्रम करने और हमेशा करते रहने की शपथ लेनी होगी।

आज के दौर में जो लोग सफल है उन्हें विरासत में कुछ अधिक नहीं मिला था और उन्होंने अपना साम्राज्य खुद ही खड़ा किया है इसलिए ऐसा नहीं सोचे कि आपके पास समय कम है या संसाधन कम है बल्कि पूरे उत्साह से अपनी दिशा में काम करें।

ये कुछ खासियतें है जो सफल लोगो को असफल लोगो की भीड़ से अलग करती है अगर आप भी इनमे से कुछ अपने में डेवलप कर पाने के सक्षम होते है तो आप भी ज़िन्दगी में उन्ही की तरह ऊँचाई को छू सकते है और भीड़ से अलग हो सकते है।

June 7, 2018 0 comment
0 Facebook Twitter Google + Pinterest
Vegetarian

अगर आप मांसाहारी हैं और शाकाहारी (Vegetarian) बनाने का सोच रहें हैं, तो आप बिलकुल सही सोच रहें है। क्योंकि शाकाहारी लोग, मांसाहारी लोगों से ज़्यादा समय तक जीते हैं। लेकिन इसका यहाँ बिलकुल मलतब नहीं है कि मांसाहारी भोजन ख़राब है।

शाकाहारी भोजन में रोगों से लड़ने की क्षमता होती है। मांस में मिलने वाले तत्वों के कारण मांसाहार का पाचन जल्द नहीं किया जा सकता, जबकि शाकाहार भोजन (Vegetarian Food) का पाचन जल्दी किया जा सकता हैं। तो अगर आप शाकाहारी बनने की सोंच रहे हैं और आपको ऐसा करने के लिये कोई कारण चाहिए तो, आहये जानें शाकाहार भोजन के क्‍या क्‍या फायदे होते हैं।

शाकाहारी भोजन (Vegetarian Food) में सोडियम की मात्रा कम होती है, जिसकी वजह से ब्लड प्रेशर नार्मल रहता है। लेकिन सब्ज़ियों में ज़्यादा नमक का इस्तेमाल ना करें।

शाकाहारी होना भी कतई हानिकारक नहीं है। मांसाहारियों को जो तत्व मांस से मिलते हैं, वे ही तत्व शाकाहारियों को कई प्रकार के शाक से मिलते हैं। प्रोटीन जो कि मछली, मांस और अंडे से प्राप्त होता है, वह वनस्पति से भी प्राप्त होता है। मानव शरीर के कार्य करने के लिए ऐसा कोई पौष्टिक तत्व नहीं है, जो वनस्पतियों से प्राप्त नहीं किया जा सकता।

फोलेट के अत्यधिक मात्रा में होने के कारण और न्यून मात्रा में सेचुरेटेड वसा, कोलेस्ट्रॉल और एनिमल प्रोटीन मात्रा के कारण शाकाहारी भोजन हमें बहुत से रोगों से बचाता है।

शाकाहारियों में हृदय को रक्त भेजने वाली धमनियों से सम्बंधित बीमारी की संभावना कम होती है। शाकाहारियों में कुल तरल कोलेस्ट्रॉल तथा कम-घनत्व वाले लायपोप्रोटीन कोलेस्ट्रॉल की मात्रा सामान्यतः कम पाई जाती है, लेकिन उच्च-घनत्व वाले लायपोप्रोटीन कोलेस्ट्रॉल की मात्रा इस बात पर निर्भर करती है कि आप किस प्रकार का शाकाहारी भोजन ग्रहण करते हैं।

शाकाहारियों में हाई ब्लड प्रेशर की संभावना मांसाहारियों से कम होती है और यह वजन व नमक पर निर्भर नहीं करता। इसका कारण यह भी हो सकता है कि वे कॉम्लेक्स काब्रोहाड्रेट ज़्यादा मात्रा में ग्रहण करते हैं और शारीरिक स्थूलता इनमें कम होती है।

शाकाहारी लोगो को फेफड़ों और बड़ी आंत का कैन्सर शाकाहारियों में कम होता है। इसका कारण यह होता है कि शाकाहारी रेशायुक्त फल और सब्जियों का अधिक सेवन करते हैं।

दुनिया भर से लिए गए आंकड़े यह दर्शाते हैं कि वनस्पति आधारित भोजन करने वालों में स्तन का कैन्सर होने की संभावना कम होती है। कारण शाकाहारियों में एस्ट्रोजन की कम मात्रा सहायक पाई गई है।

आपकी जानकारी के लिए बता दें की शाकाहारी भोजन गुर्दे से सम्बंधित रोगों की रोकथाम में सहायक हो सकता है। अध्ययनों में यह पता चलता है कि वनस्पतियों में पाए जाने वाले कुछ प्रोटीन जीवित रहने की संभावना बढ़ाते हैं और पेशाब के द्वारा प्रोटीन का निकल जाना, कोशिकाओं द्वारा रक्त छनने की गति, गुर्दे में रक्त संचार और गुर्दे से सम्बंधित विकार मांसाहारियों की तुलना में शाकाहारियों में कम पाए जाते हैं।

वनस्पतियों से प्राप्त प्रोटीन शरीर की अमीनो एसिड की आवश्यक मात्रा के लिए पर्याप्त है, बशर्ते हर प्रकार के वनस्पति आधारित पदार्थों का सेवन किया जाए ।

अभी हाल ही में एक होटल में छापा पड़ा जंहा लोगो को कुत्तो का मांस खिलाया जा रहा था ।

इसीलिए शाकाहारी बनिए । स्वस्थ रहें मस्त रहे ।

May 15, 2018 0 comment
0 Facebook Twitter Google + Pinterest
yoga

माना जाता है कि योग (Yoga) का जन्म भारत में ही हुआ मगर दुखद यह रहा की आधुनिक कहे वाले समय में अपनी दौड़ती-भागती ज़िन्दगी से लोगों ने योग को अपनी दिनचर्या से हटा लिया। जिसका असर लोगों के स्वाथ्य पर हुआ। मगर आज भारत में ही नहीं विश्व भर में योग का बोलबाला है और निसंदेह उसका श्रेय भारत के ही योग गुरूओं को जाता है जिन्होंने योग (Yoga) को फिर से पुनर्जीवित किया।

सभी तनाव सम्बंधी बीमारियों में इसके फायदे सिद्ध हो चुके हैं। इसमें उच्च रक्तचाप, ऑटो इम्यून डिसऑर्डर, अवसाद, घबराहट और बर्नआउट जैसी कार्डियोवैस्कुलर सिस्टम की परेशानियाँ भी शामिल हैं। पीठ और गर्दन के दर्द से लेकर विचलित करने वाले बोवेल सिंड्रोम में भी इससे फायदा होता है। योग (Yoga) से केवल लक्षण ही नहीं, मूल बीमारी भी ठीक हो जाती है। यद्यपि योग की उत्पत्ति हमारे देश में हुई है, किंतु आधुनिक समय में इसका प्रचार-प्रसार विदेशियों ने किया है, इसलिए पाश्चात्य सभ्यता की नकल करने वाले ‘योग‘ (Yoga) शब्द को ‘योगा’ बोलने में गौरवान्वित महसूस करते हैं।

प्राचीन समय में इस विद्या के प्रति भारतीयों ने सौतेला व्यवहार किया है। योगियों का महत्त्व कम नहीं हो जाए. अत: यह विद्या हर किसी को दी जाना वर्जित थी। योग (Yoga) ऐसी विद्या है जिसे रोगी-निरोगी, बच्चे-बूढ़े सभी कर सकते हैं। महिलाओं के लिए योग बहुत ही लाभप्रद है। चेहरे पर लावण्य बनाए रखने के लिए बहुत से आसन और कर्म हैं। कुंजल, सूत्रनेति, जलनेति, दुग्धनेति, वस्त्र धौति कर्म बहुत लाभप्रद हैं। कपोल शक्ति विकासक, सर्वांग पुष्टि, सर्वांग आसन, शीर्षासन आदि चेहरे पर चमक और कांति प्रदान करते हैं।

योग (Yoga) का सबसे खास पक्ष है सांस और गति के बीच तालमेल स्थापित होना, जिससे शांति और विश्राम की स्थित में पहुंचा जाता है। तनाव की स्थिति में हमारा सिंपेथेटिक नर्वस सिस्टम सक्रिय रहता है। तनाव और उसके साथ आने वाली थकावट की अनुभूतियों का असर कम करने के लिए हमें तनाव के चक्र को नियमित रूप से तोड़ने की ज़रूरत होती है। योगाभ्यास कर शांति और विश्राम की स्थिति में आने से हमें खुद के बारे में अच्छी अनुभूति होती है। यह विचार कि हम खुद पर नियंत्रण के लिए कुछ कर सकते हैं, तनाव के असर को कम करता है और इस तरह तनाव की अनुभूति कम तनावपूर्ण लगने लगती है।

मोटापे को दूर करने के लिए  वैसे तो मात्र आंजनेय आसन ही लाभयायक सिद्ध होगा लेकिन आप करना चाहे तो ये भी कर सकते हैं- वज्रासन, मण्डूकासन, उत्तानमण्डूसकासन, उत्तानकूर्मासन, उष्ट्रासन, चक्रासन, उत्तानपादासन, सर्वागांसन व धनुरासन, भुजंगासन, पवनमुक्तासन, कटिचक्रासन, कोणासन, उर्ध्वाहस्तोहत्तातनासन और पद्मासन।

श्वास क्रिया सीधे खड़े होकर दोनों हाथों की उँगलियाँ आपस में फँसाकर ठोढ़ी के नीचे रख लीजिए. दोनों कुहनियाँ यथासंभव परस्पर स्पर्श कर रही हों। अब मुँह बंद करके मन ही मन पाँच तक की गिनती गिनने तक नाक से धीरे-धीरे साँस लीजिए. इस बीच कंठ के नीचे हवा का प्रवाह अनुभव करते हुए कुहनियों को भी ऊपर उठाइए. ठोढ़ी से हाथों पर दबाव बनाए रखते हुए साँस खींचते जाएँ और कुहनियों को जितना ऊपर उठा सकें उठा लें। इसी बिंदु पर अपना सिर पीछे झुका दीजिए. धीरे से मुँह खोलें। आपकी कुहनियाँ भी अब एकदम पास आ जाना चाहिए. अब यहाँ पर छ: तक की गिनती गिनकर साँस बाहर निकालिए. अब सिर आगे ले आइए. यह अभ्यास दस बार करें, थोड़ी देर विश्राम के बाद यह प्रक्रिया पुन: दोहराएँ। इससे फेफड़े की कार्यक्षमता बढ़ती है। तनाव से मुक्ति मिलती है और आप सक्रियता से कार्य में संलग्न हो सकती हैं।

सूर्य नमस्कार (Surya Namaskar)

सूर्य नमस्कार योगासनों में सर्वश्रेष्ठ प्रक्रिया है। यह अकेला अभ्यास ही साधक को सम्पूर्ण योग व्यायाम का लाभ पहुंचाने में समर्थ है। मानव शरीर की सरंचना ब्रम्हांड की पंच तत्वों से हुआ है और इसे (शरीर रूपी यंत्र) सुचारू रूप से गतिमान स्नायु तंत्र करता है। जिस व्यक्ति के शरीर में स्नायुविक तंत्र जरा-सा भी असंतुलित होता है वह गंभीर बीमारी की ओर अग्रसर हो जाता है। “सूर्य नमस्कार(Surya Namaskar) स्नायु ग्रंथि को उनके प्राकृतिक रूप में रख संतुलित रखता है। इसके अभ्यास से साधक का शरीर नीरोग और स्वस्थ होकर तेजस्वी हो जाता है। ‘सूर्य नमस्कार’ स्त्री, पुरुष, बाल, युवा तथा वृद्धों के लिए भी उपयोगी बताया गया है।

पादहस्त आसन

सीधे खड़ा होकर अपने नितंब और पेट को कड़ा कीजिए और पसलियों को ऊपर खीचें। अपनी भुजाओं को धीरे से सिर के ऊपर तक ले जाइए. अब हाथ के दोनों अँगूठों को आपस में बाँध लीजिए. साँस लीजिए और शरीर के ऊपरी हिस्से को दाहिनी ओर झुकाइए. सामान्य ढंग से साँस लेते हुए दस तक गिनती गिनें फिर सीधे हो जाएँ और बाएँ मुड़कर यही क्रिया दस गिनने तक दोहराएँ। पुन: सीधे खड़े होकर जोर से साँस खींचें। इसके पश्चात कूल्हे के ऊपर से अपने शरीर को सीधे सामने की ओर ले जाइए. फर्श और छाती समानांतर हों। ऐसा करते समय सामान्य तरीके से साँस लेते रहें। अपने धड़ को सीधी रेखा में रखते हुए नीचे ले आइए

बिना घुटने मोड़े फर्श को छूने की कोशिश करें। यथासंभव सिर को पाँवों से छूने का प्रयास करें। दस तक गिनती होने तक इसी मुद्रा में रहें। अपनी पकड़ ढीली कर सामान्य अवस्था में आ जाएँ। इस आसन से पीठ, पेट और कंधे की पेशियाँ मजबूत होती हैं और रक्त संचार ठीक रहता है।

शवासन

इस आसन में आपको कुछ नहीं करना है। आप एकदम सहज और शांत हो जाएँ तो मन और शरीर को आराम मिलेगा। दबाव और थकान खत्म हो जाएगी। साँस और नाड़ी की गति सामान्य हो जाएगी। इसे करने के लिए पीठ के बल लेट जाइए. पैरों को ढीला छोड़कर भुजाओं को शरीर से सटाकर बगल में रख लें। शरीर को फर्श पर पूर्णतया स्थिर हो जाने दें।

कपालभाति क्रिया

अपनी एड़ी पर बैठकर पेट को ढीला छोड़ दें। तेजी से साँस बाहर निकालें और पेट को भीतर की ओर खींचें। साँस को बाहर निकालने और पेट को धौंकनी की तरह पिचकाने के बीच सामंजस्य रखें। प्रारंभ में दस बार यह क्रिया करें, धीरे-धीरे 60 तक बढ़ा दें। बीच-बीच में विश्राम ले सकते हैं। इस क्रिया से फेफड़े के निचले हिस्से की प्रयुक्त हवा एवं कार्बन डाइ ऑक्साइड बाहर निकल जाती है और सायनस साफ हो जाती है साथ ही पेट पर जमी फालतू चर्बी खत्म हो जाती है। इस प्राणायाम को करने के बाद अनुलोम विलोम प्राणायाम भी करे, कपाल भाती और अनुलोम विलोम प्राणायाम दोनो मित्र प्राणायाम है।

पद्मासन

विधि: जमीन पर बैठकर बाएँ पैर की एड़ी को दाईं जंघा पर इस प्रकार रखते हैं कि एड़ी नाभि के पास आ जाएँ। इसके बाद दाएँ पाँव को उठाकर बाईं जंघा पर इस प्रकार रखें कि दोनों एड़ियाँ नाभि के पास आपस में मिल जाएँ।

मेरुदण्ड सहित कमर से ऊपरी भाग को पूर्णतया सीधा रखें। ध्यान रहे कि दोनों घुटने जमीन से उठने न पाएँ। तत्पश्चात दोनों हाथों की हथेलियों को गोद में रखते हुए स्थिर रहें। इसको पुनः पाँव बदलकर भी करना चाहिए. फिर दृष्टि को नासाग्रभाग पर स्थिर करके शांत बैठ जाएँ।

विशेष

स्मरण रहे कि ध्यान, समाधि आदि में बैठने वाले आसनों में मेरुदण्ड, कटिभाग और सिर को सीधा रखा जाता है और स्थिरतापूर्वक बैठना होता है। ध्यान समाधि के काल में नेत्र बंद कर लेना चाहिए. आँखे दीर्घ काल तक खुली रहने से आँखों की तरलता नष्ट होकर उनमें विकार पैदा हो जाने की संभावना रहती है।

लाभ

यह आसन पाँवों की वातादि अनेक व्याधियों को दूर करता है। विशेष कर कटिभाग तथा टाँगों की संधि एवं तत्सम्बंधित नस-नाड़ियों को लचक, दृढ़ और स्फूर्तियुक्त बनाता है। श्वसन क्रिया को सम रखता है। इन्द्रिय और मन को शांत एवं एकाग्र करता है। इससे बुद्धि बढ़ती एवं सात्विक होती है। चित्त में स्थिरता आती है। स्मरण शक्ति एवं विचार शक्ति बढ़ती है। वीर्य वृद्धि होती है। सन्धिवात ठीक होता है।

May 3, 2018 0 comment
0 Facebook Twitter Google + Pinterest

जिंदगी बिता का हुवा पल दुबारा कभी नहीं आता है । आप जानते ही होंगे की तस्वीरें और मानवीय ज़िन्दगी का शुरू से ही गहरा संबंध रहा है। तस्वीरें हमारी  ज़िन्दगी के हसीन पलों को हमेशा सम्भाल कर रखती हैं और खूबसूरत यादों को ताज़ा करती हैं। पुराने समय में तस्वीरें हाथ से बनाई जाती थीं। फिर कैमरे की आमद से ब्लैक एंड व्हाइट तस्वीरों की शुरुआत हुई और फिर समय के साथ तस्वीरें रंगीन हुईं। इसी दौरान कम्प्यूटर और तकनीकी युग की शुरुआत होने के साथ तस्वीरें डिजीटल हुईं। चलने और बोलने लगी । लेकिन मोबाइल फोन की आमद ने फोटोग्राफी के कार्य को बड़ा नुक्सान पहुंचाया। इसी समय के दौरान ही जब फोटोग्राफी का व्यवसाय लगभग खत्म होने की कगार पर जा रहा था की HD फोटोग्राफी और ‘प्री-वैंडिग’ (Pre Wedding Shoot) का दौर आगया और इस व्यवसाय में कुछ जान आ गई ।

इससे मन को आकर्षित कर लेने वाली तस्वीरों ने लोगों को अपनी ओर खींचा। इसी के पश्चात् ‘प्री-वैंडिग’ (Pre Wedding Shoot) अर्थात् विवाह से पहले वीडियो फ़िल्मांकन और फोटो शूट की शुरुआत हुई है। वर्तमान में यह रुझान पूरे देश में-में तेजी के साथ बढ़ रहा है। अब जब भी कोई व्यक्ति अपने बेटा-बेटी की शादी के लिए किसी फोटोग्राफर को बुक करने के लिए जाता है तो उन फोटोग्राफरों की ओर से पहले ही यह पूछा जाता है कि उन्हें विवाह का प्री-वैडिंग वीडियो (Pre Wedding Shoot) फ़िल्मांकन या फोटो शूट करना है। फोटोग्राफरों ने इसके लिए विशेष तौर पर महत्त्वपूर्ण एवं सूंदर लोकेशनें (वह खास स्थान जहाँ फोटोशूट या फ़िल्मांकन करना) ढूंढ कर रखी होती है। कई बार ज़रूरत के अनुसार या सम्बंधित विवाह वालों की इच्छा के अनुसार तथा उनके बजट के हिसाब से भी सैट लगाए जाते हैं। यह काम पूरी तरह फ़िल्मी अंदाज़ में ही होता है।

फोटोग्राफर विवाह के कुछ दिन पहले लड़के और लड़की वालों की सहमति से विवाह वाले दम्पति को कुछ बहुत ही खास चुने हुए स्थानों पर लेकर जाते हैं और वहाँ फ़िल्मों की तरह ही उन पर मीठे रोमांटिक किस्म के गीतों का फ़िल्मांकन किया जाता है। इसी के साथ ही शानदार फोटो शूट भी होता है जिसमें विवाह वाले लड़के और लड़की के कई दिलकश दृश्यों वाले नयनाभिराम फोटो खींचे जाते हैं। फोटोग्राफरों की ओर से शानदार गीतों और खूबसूरत-सी लोकेशनों के हिसाब से सम्बंधित पार्टी से पैसे लिए जाते हैं। साधारणतः जब शादी का दिन होता है तो विवाह वाले लड़के / लड़की की खींची गईं यह विभिन्न दृश्यों वाली तस्वीरें या वीडियो के रूप में मैरिज पैलेसों के गेट से ही दिखाई देती हैं।

मैरिज पैलेस के पूरे आंगन में इनको बड़े प्रिंटों के रूप में सजाया जाता है। आगे स्टेज पर और एक-दो अन्य स्थानों पर लगाई गई बड़ी स्क्रीनों पर प्री-वैडिंग की शानदार वीडियोज़ भी सारा दिन चलाई जाती है। यह सब कुछ किसी फ़िल्म से कम नहीं होता क्योंकि शानदार दृश्यों को और अधिक अच्छा साबित करने के लिए इन वीडियोज़ की विशेष तौर पर मिक्सिंग और कलर प्रोसैसिंग भी करवाई जाती है। यह सब कुछ एक बहुत ही शानदार नज़ारा पेश करता है। इसके बाद विवाह वाले जोड़े और फोटोग्राफरों की ओर से इसको सोशल मीडिया पर भी शेयर किया जाता है। बहु-संख्या में जहाँ लोगों की ओर से इसकी प्रशंसा की जाती है वहीं कुछ लोग इसको ग़लत करार दे रहे हैं। लेकिन सच यही है कि यह रुझान तेजी से बढ़ रहा है। धनवान लोग इस काम पर पैसा खर्च करने से गुरेज़ नहीं कर रहे। आप अपने बजट के अनुसार फोटोग्राफरों से बात कर सकते है। तथा अपने या अपने बच्चों के जीवन के उन अभूतपूर्व अनमोल पलों को हमेशा के लिए सहेज कर रख सकतें है ।

March 29, 2018 0 comment
1 Facebook Twitter Google + Pinterest
Job

आईटी, ई-कॉमर्स सेक्टर के बूस्ट के बीच भी ये ऐसे करियर हैं जो अभी तक अच्छा कर रहे हैं। ये इंडिया की ट्रेडिशनल जॉब्स मानी जाती हैं। ये जॉब (Job) इंडिया की हाइस्ट पेयिंग जॉब्स (Job) है, जिसमें औसतन सालाना सैलरी अन्य के मुकबले बेहतर है। हालांकि, ये सैलरी आपके अनुभव और टैलेंट के आधार पर इससे ज़्यादा भी हो सकती है लेकिन सर्वे में औसतन सालाना सैलरी बताई गई है।

मैनेजमेंट प्रोफेशनल (Management Job)

मैनेजमेंट प्रोफेशनल किसी भी कंपनी के मेन कर्मचारी माने जाते हैं। उनका काम एक प्रोजेक्ट को ऑर्गनाइज करने लेकर सही तरीके से पूरा करने तक होता है। इस नौकरी में ज़्यादा से ज़्यादा पैकेज मिलने की सम्भावना । इस नौकरी में एंट्री लेवल पर काफी मेहनत करनी पड़ती है। एक बार जब आप एंट्री लेवल को पार कर लेते हैं, तो हाइएर लेवल पर आपके लिए और हाइएर लेवल पर आपके लिए और मौके खुल जाते हैं। एंट्री लेवल – 3 लाख रुपए मिड लेवल – 25 लाख रुपए अनुभवी – 80 लाख रुपए  ।

इन्वेस्टमेंट बैंकर इन्वेस्टमेंट

इन्वेस्टमेंट बैंकर इन्वेस्टमेंट बैंकर किसी भी कंपनी की कैपिटल बढ़ान के लिए फाइनेंशियल एडवाइज देते हैं। वह सिर्फ पैसे के साथ डील करते हैं। एंट्री लेवल – 12 लाख रुपए मिड लेवल – 30 लाख रुपए अनुभवी – 50 लाख रुपए ।

चार्टेड अकाउंटेट (CA)

चार्टेड अकाउंटेट चार्टेड अकाउंटेट की नौकरी को इंडिया में रिस्पेक्टेड जॉब माना जाता है। चार्टेड अकाउंटेट बिजनेस और अकाउंटेंसी में माहिर माने जाते हैं। वह इसके लिए काफी पढ़ाई करते हैं। एंट्री लेवल – 5.50 लाख रुपए मिड लेवल – 12 लाख रुपए अनुभवी – 25 लाख रुपए

मार्केटिंग जॉब (Marketing Job)

मार्केटिंग जॉब एक ऐसा प्रोफेशनल जिसको मार्केट की अच्छी जानकारी हो वह किसी कंपनी का सीईओ तक बन सकता है। मार्केटिंग एक आर्ट है। अगर कोई ये आर्ट अच्छे से सीख ले तो वह इंडिया के बेस्ट प्रोफेशनल की लिस्ट में शामिल हो सकता है। एंट्री लेवल – 1.50 से 4.50 लाख रुपए मिड लेवल – 5 लाख रुपए अनुभवी – 10 लाख  रूपये ।

आईटी और सॉफ्टवेयर इंजीनियर (software Engineer)

आईटी और सॉफ्टवेयर इंजीनियर ये एक ऐसा करियर है जो काफी अच्छा पर करता है। ये करियर आपको विदेश में नौकरी का भी मौका देता है। आईटी और सॉफ्टवेयर इंजीनियर कंप्यूटर की भाषा से लेकर सॉफ्टवेयर डिजाइनिंग जैसी तमाम जानकारी होनी चाहिए. एंट्री लेवल–3.50 लाख रुपए मिड लेवल-8.30 लाख रुपए अनुभवी-15 लाख रुपए के लगभग।

ऑयल एंड नेचुरल गैस सेक्टर

ऑयल एंड नेचुरल गैस सेक्टर प्रोफेशनल्स ये एक ऐसा सेक्टर है जिसमें सबसे ज़्यादा प्रॉफिट होता है। इस सेक्टर में जिओलॉजिस्ट और मरीन इंजीनियर ऐसे ही प्रोफेशन हैं। हैं। इस सेक्टर में अनुभवी होने पर पैकेज अच्छा मिलता है। एंट्री लेवल–3 लाख रुपए मिड लेवल-6 लाख रुपए  अनुभवी-15 से 20 लाख रुपए के लगभग।

मेडिकल प्रोफेशनल (Medical Job)

मेडिकल प्रोफेशनल मेडिकल सेक्टर में कभी भी मंदी का असर नहीं पड़ता। इस प्रोफेशन अच्छी करियर ग्रोथ है। शुरूआत में मेडिकल प्रोफेशन में काफी मेहनत करनी पड़ती है। यहां औसत सैलरी आपकी अनुभव और मेडिकल फील्ड पर अधिक निर्भर करता है। जनरल प्रेक्टिस – 4.80 लाख रुपए जनरल सर्जन – 8 लाख रुपए मेडिकल डॉक्टर – 17 लाख रुपए  के लगभग ।

December 8, 2017 0 comment
0 Facebook Twitter Google + Pinterest
Newer Posts
Loading...