Home Information
Category

Information

In India, the importance of adult education is increasing and the government has given priority to the role of adult education in India. Also, there is a programme launched by the government named- National Adult Education Programme on the 2 nd of October, 1978. The aim behind the programme was to provide the adult education to the illiterate belonging to the age- 15 to 35 years. Adult education is emphasized all over the country.

The aim of adult education in India is to provide education to those who have lost the chance to gain education due to any reason. As it is said that-education is the long term return and education is the ongoing process, it does not end just with the schools. Although, life is all about to develop and grow one’s life.

Since our country is democratic and education is the right of every human being and therefore, adult education in India has become the needs of society today. The role of adult education is not merely to eliminate illiteracy level but also adhere to eliminate the ill-health, unemployment and poverty.

Adult education is the part-time education and it has two types- formal education and informal education. Adult education in India has become the cherished goal itself because it strives for learning and development.

India is about to remark its goodwill in the subject matter of adult education as the Indian government is taking so many initiatives for the citizens to increase the level of adult education in India.

Today, it is believed that illiterate peoples live an inferior life. So to live a developed, growing and stress- free life one need to have education so that one can live his life decently and desirable way. If adults are not educated, then it might not be possible for India to be economically and socially developed. By the means of adult education, make your life worth and valued.

August 14, 2019 0 comment
1 Facebook Twitter Google + Pinterest

Generally, secondary education is the third level of education and includes up to the 10 th class. Secondary education level prepares the students for the higher secondary education i.e. 11 th and 12 th standards. besides all these, there are several problems of secondary education in India today.

Many government schools are not well managed and rest of the private schools has become extremely costly and just they charge so many rupees and in return, they do not properly provide the secondary education. Many schools do not set any organised aim of secondary education and it turns into the problem of secondary education. Secondary education provides only bookish and theoretical knowledge and no practical knowledge is conceived and this is the reason why students do not understand some important units.

There is no complete utilization of secondary education in many schools due to the negligence of the teachers and this gives rise to unemployment after the higher education.

In some of the schools, teachers only teach and go but they don’t understand that merely a bread is not enough to full-fill the stomach, although it requires something more. Likewise, merely gaining an education is not a full sense but
having the proper manners and discipline over the culture makes a full sense. Education and cultural education both goes parallel.

Many schools do not possess and includes physical activities and if includes then it is so minimal. Today students need extra physical activities to be physically and mentally fit. Alone education can’t do anything so physical
education should be emphasised.

One of the major problems of secondary education is the lack of experienced teachers and a lack of training programme. This lead to a crucial problem for secondary education students. This is the fault of the teachers that they are inefficient and not well-trained. So we India needs a vocational training programme for the teachers to make secondary education succeed.

August 14, 2019 0 comment
0 Facebook Twitter Google + Pinterest

Yoga is an ancient Indian way of life. Through yoga, we can keep the body, mind and brain healthy. Doing yoga can get rid of many diseases. Yoga keeps the body powerful and it relieves stress from yoga. The body remains healthy and healthy. Yoga not only gives your body a rest, it also gives you peace of mind. Doing regular yoga keeps your mind happy and removes irritability.

Obesity is a major problem nowadays. Working in one place for hours, not exercising, which is causing obesity. There is a risk of many diseases like diabetes, high blood pressure, heart attack due to obesity. Apart from this, problems like obesity, headache, tension and osteoporosis also occur for a long time. Millions of people die every year from diseases leading to obesity worldwide. You can reduce obesity by doing regular yoga. Configuration yoga is considered to be very beneficial to reduce fat deposited on the stomach.

If your weight is too much and the belly has come out due to accumulation of fat or the whole body is fat, then you also have to take care of your diet and you can reduce your weight fast by using configuration yoga.
Yoga is very beneficial for you, because it helps to maintain the beauty, peace and balance. Yoga helps us to make our skin beautiful. It makes you healthy and stress-free. Prevention of premature aging can be prevented by yoga and exercise. Yoga is not only beneficial for your health, but daily yoga also keeps your skin tight and glows on the skin. Yoga enhances your blood circulation. It removes skin, fatigue and gives a kind of glow, which makes you look beautiful. Apart from this, it also removes acne.

CONCLUSIONS – Today’s fast pace There are many such moments in life that put a brake on our speed. There are many reasons around us which give rise to tension, fatigue and irritability, which makes our lives unsettled. In such a situation, yoga is a panacea medicine to keep life healthy and energetic, which keeps the mind cool and the body fit. The speed of life gets a musical momentum through yoga. The importance of yoga will increase in future. With compound actions, everything can be changed, which is given by nature.

August 13, 2019 0 comment
0 Facebook Twitter Google + Pinterest

Today the world has become digital and digital and digital marketing is growing with the speed.Digital marketing is the modern way of marketing via the internet and it includes doing business using the upgraded digital technology over the internet, phone and display advertising. Today digital marketing trends are on the top and now you can no longer ignore it.

Digital marketing has taken over the way of traditional business. Every company are expanding their business with the help of digital marketing. With the use of digital marketing, you can easily access to an audience with effectiveness and efficiency. The success behind many businesses is today the support of digital marketing. It completely creates brand loyalty and increases your increment level. When you use the tools of digital marketing, it helps you to gain trust and builds your credibility.

We can say that business today needs the help of digitalization to survive, thrive and grow in this competitive world. Many big opportunities knock the door of your business if you utilize the growing trends of digital marketing.

Whether you are a student, professional, housewife or a businessman. Digital marketing serves you the best and it helps you to get a big earning. There is a lot of scope in the field of digital marketing. All the social sites like Facebook, Twitter, Instagram and Whatsapp are the source of creating the bond between the customer and seller.

One of the most important things about digital marketing is – It has a global reach. If you are planning to expand your business, then it is possible with the digitalization. The main motto of digital marketing is that it needs to SMART; Specific, Measurable, Attainable, Relevant and Timely. The whole digital marketing strategy runs to be SMART.

The benefits of digital marketing –

It adds value to your business, leads to online sales, increased rate of profit, global reach,increase in a source of income, increases in brand loyalty.More than a half of the world has become digital and with the continuous increasing rate of
digitalisation, the growing trend and importance of digital marketing will surely deliver loads of benefits to all the customers.

August 13, 2019 0 comment
0 Facebook Twitter Google + Pinterest

अमेरिकी सुपरहीरो की हिट फ़िल्म है, जो मार्वेल कॉमिक्स की सुपरहीरो टीम, अवेंजर्स पर आधारित है। इसका निर्माण मार्वल स्टूडियो ने किया है, इस मूवी की कहानी क्रिस्टोफर मार्कस और स्टीफन मैकफ़ेली ने लिखी है, और यह फिल्म एंथनी तथा जो रूसो द्वारा निर्देशित की गई है।

इस मूवी के कलाकार इस प्रकार है :-

रॉबर्ट डॉनी जुनियर – टोनी स्टार्क/आयरन मैन
एक स्वयं घोषित विद्वान, रइस, रोमियो और इंजिनियर जिसने खुद एक यांत्रिक सूट बनाया है। डॉनी को अपनी चार फ़िल्मों के समझौते के चलते इस फ़िल्म में लिया गया था जिनमे आयरन मैन २ और द अवेंजर्स शामिल है।
क्रिस इवांस – स्टीव रॉजर्स/कैप्टन अमेरिका
एक द्वितीय विश्वयुद्ध का सेनानी जिसे मानवता की शारीरिक चोटी पर प्रयोगात्मक द्रव्य से पहुँचाया गया था। कैप्टन अमेरिका और टोनी स्टार्क में लगातार मतभेद उत्पन्न होते रहते हैं क्योंकि दोनों ही अलग-अलग काल के है।
मार्क रफ़्लो – डॉ॰ ब्रुस बैनर/हल्क
एक विद्वान वैज्ञानिक जो गामा किरणों के प्रभाव में आने के चलते गुस्सा होने पर एक दानव में बदल जाता है। हल्क का अभिनय करने के लिए अवतार में उपयोग की गई तकनीक का प्रयोग किया गया है। लोउ फेरिग्नो ने हल्क को आवाज़ दी है।
क्रिस हैमस्वर्थ – थॉर
नॉर्स मृथक में वर्णित बिजली का देवता। अपने इस पात्र के लिए क्रिस हेम्स्वर्थ ने वज़न व शारीरक बल बढ़ाया था।
स्कार्लेट जोहानसन – नताशा रोमानोफ़/ब्लैक विडो
जेरेमी रेनर – क्लिंट बर्टन/हॉकाआय
सैम्युअल एल. जैक्सन – निक फ्यूरी
टॉम हिडल्स्टन – लोकी
कोबी स्मल्डर्स – मारिया हिल
स्टेलान स्कार्सगार्ड – डॉ॰ एरिक सेल्विग

April 25, 2019 0 comment
1 Facebook Twitter Google + Pinterest

Munkatcher Rebbe at wedding of his beloved nephew, Rabbi Dr. Nathan David Rabinowich

Munkatcher Rebbe,zt”l, at wedding of his beloved nephew, Rabbi Dr. Nathan David Rabinowich. To Dr.Rabinowich’s left sits a very dear friend, Rabbi Yisrael Meir Vogel of Baltimore, the Ketubaillustrator.

Nathan David Rabinowich is the Executive Director of Jewish Heritage Tours, a firm that organizes educational tours to Africa, Canada, and Western Europe & authored of 13 acclaimed books on Jews history and has been honored with numerous awards for his exceptional work on the subject.

Website:

http://nossonrabinowich.com/

October 22, 2018 10 comments
0 Facebook Twitter Google + Pinterest

Nathan David Rabinowich is a famous business personality. Nathan David Rabinowich served as the Executive Director at Jewish Heritage Tours, Brooklyn for more than ten years.

Rabbi Dr. Nosson Dovid Rabinowich’s Latest Publications and what is Forthcoming

The Responsa and Talmudic Novellae of Rav Sherira ben Rav Chanina Gaon, Two volumes, Jerusalem, 2012 (Hebrew) The first-ever collection of all the known writings of Rav Sherira Gaon, the Gadol Ha’Dor of the 10th- 11th centuries, of Baghdad.

Binat Nevonim, fascinating ground-breaking essays on the lessons of the Holocaust by the Munkatcher Rebbe, zt”l, Rebbe Baruch Yehoshua Yerachmiel Rabinowich; incl. a long introduction about the Rebbe’s life and his amazing “hatzalah” work ,saving thousands of Jewish lives in Budapest, Jerusalem, 2013

Chidushei Bais Av : A remarkable and original 3 part work, based on manuscript, from Ha’Gaon Rebbe Avraham Aaron Yudelevich, one of the greatest & most prolific Rabbanim in America(d.1930) and the first rabbi to ever visit the White House(1924), Jerusalem, 2013 (published by Rabbi Dr. Nosson Dovid Rabinowich with a long essay about Rav Yudelevich’s controversial life)

Upcoming :

An oversize , two volume collector’s edition of all the responsa of Ha’Gaon Rebbe Avraham Aaron Yudelevich dealing with all sections of the Shulchan Aruch.

A collection of all of the biographical monographs of the great scholar, Ha’Gaon Rebbe Reuvain Margolies.

A collection of all Rabbi Margolies’ notes on the four sections of Shulchan Aruch,on Rambam and some other important Medievalists (all from mss.)

Website:

http://nossonrabinowich.com/

October 17, 2018 0 comment
0 Facebook Twitter Google + Pinterest
Chandra Grahan

Chandra Grahan क्यों होता है

विज्ञानं  की दृष्टि से चंद्रग्रहण उस खगोलीय स्थिति को कहते है जब चंद्रमा पृथ्वी के ठीक पीछे उसकी प्रतिछायां  में आ जाता है। तथा ऐसा तभी हो सकता है जब सूर्य, पृथ्वी और चन्द्रमा इस क्रम में लगभग एक सीधी रेखा में  उपस्थित हों। इस भौगोलिक प्रतिबंध के कारण chandra grahan केवल पूर्णिमा को घटित हो सकता है। chandra grahan का स्वरूप  एवं अवधि चंद्र आसंधियों के सापेक्ष होने वाली चंद्रमा की स्थिति पर निर्भर करता है ।

साधारणतः chandra grahan को पृथ्वी के रात्रि पक्ष के किसी भी भाग से देखा जा सकता है। जहाँ चंद्रमा की छाया की लघुता के कारण सूर्यग्रहण किसी भी स्थान से केवल कुछ मिनटों तक ही दिखता है, वहीं चंद्रग्रहण की अवधि कुछ घंटों की होती है। चंद्रग्रहण को, आँखों के लिए बिना किसी विशेष सुरक्षा के देखा जा सकता है, क्योंकि चंद्रग्रहण की उज्ज्वलता पूर्ण चंद्र से भी कम होती है।

सदी का सबसे बड़ा चन्द्र ग्रहण

इस सदी का सबसे विशाल  चंद्रग्रहण (longest lunar eclipse) आज यानि  27 जुलाई 2018 को लग रहा है ।  महत्वपूर्ण बात यह है कि यह ग्रहण संपूर्ण भारतवर्ष में दिखाई देगा तथा आरम्भ से  एवं मोक्ष काल तक ग्रहण दिखाई देगा । यह खग्रास चंद्रग्रहण संपूर्ण यूरोप, अफ्रीका, एशिया तथा आस्ट्रेलिया महाद्वीप में  दिखाई देगा न्यूजीलैंड के अधिकांश भाग में, जापान, रूस, चीन, अफ्रीका तथा यूरोप के अधिकांश भागों में दिखाई होगा ।

27 जुलाई 2018 को पड़नेवाला चंद्रग्रहण वर्तमान सदी का सबसे लंबा चंद्रग्रहण है। इस ग्रहण का समय लगभग 4 घंटे का है। यह चंद्रग्रहण इसलिए भी बेहद खास है क्योंकि इस दिन कई ऐसा संयोग बन रहे हैं जो ज्योतिष की दृष्टि से बेहद ही खास हैं।इतिहास उठाकर यदि देखा जाये तो तकरीबन 18 साल के बाद गुरु पूर्णिमा के दिन चंद्रमा को ग्रहण लगने जा रहा है। इससे पूर्व में 16 जुलाई 2000 को गुरु पूर्णिमा के दिन ऐसा चंद्रग्रहण लगा था।

इस चंद्रग्रहण के दौरान मंगल और केतु के बीच त्रिग्रही योग बनेगा। केतु के साथ मकर राशि में चंद्रमा के होने से भी ग्रहण योग बन रहा है। जब चंद्रमा और केतु किसी राशि में एकसाथ होते हैं तब ही ऐसा योग बनता है।

यह चंद्र ग्रहण पूर्ण खग्रास होगा अर्थात पूरा चंद्रग्रहण। यह चंद्रग्रहण इसलिए भी अत्यधिक महत्त्वपूर्ण है क्योंकि एक ही साल में यह दूसरा ब्लडमून चंद्रग्रहण होगा।

गुरु पूर्णिमा को चंद्रग्रहण होने के कारण आपको गुरु पूजन सूतक लगने से पहले ही कर लेना चाहिए. क्योंकि चंद्र ग्रहण से 9 घंटे पहले सूतक लगेगा इसलिए बेहतर होगा कि आप दोपहर ढाई बजे तक गुरु पूजन और मंदिर दर्शन कर लें। लगभग दोपहर बाद मंदिरों के कपाट बंद हो जाएंगे।

July 27, 2018 0 comment
0 Facebook Twitter Google + Pinterest
Delhi lal kila

दिल्ली का महशूर लाल किला, (Delhi lal kila) पुरानी दिल्ली के इलाके में स्थित है, यह किला लाल रेत-पत्थर से निर्मित है। दिल्ली के इस ऐतिहासिक किले को पाँचवे मुग़ल बाद्शाह शाहजहाँ ने बनवाया था। इस किले को “लाल किला”  इसकी दीवारों के लाल रंग के कारण कहा जाता है। इस ऐतिहासिक किले को वर्ष 2007 में युनेस्को द्वारा एक विश्व धरोहर स्थल चयनित किया गया था।

प्राचीन इतिहास के अनुसार लाल किला मुगल बादशाह शाहजहाँ द्वारा ई स 1639 में बनवाया गया था। लाल किले का जीर्णोद्धार फिर से किया गया था, जिससे इसे सलीमगढ़ किले के साथ एक रूप किया जा सके | यह ऐतिहासिक किला एवं महल बादशाह शाहजहाँनाबाद की मध्यकालीन नगरी की राजनीती का महत्त्वपूर्ण केन्द्र-बिन्दु रहा है। लालकिले की परियोजना, एवं खूबसूरती एवं सौन्दर्य मुगल सृजनात्मकता का शिरोबिन्दु है, जो कि शाहजहाँ के काल में अपने चरम उत्कर्ष पर पहुँची थी। इस किले के निर्माण के बाद भी कई बड़े विकास कार्य स्वयं शाहजहाँ द्वारा किए गए | ब्रिटिश काल में यह किला मुख्यरूप से छावनी रूप में प्रयोग किया गया था। यही नहीं, स्वतंत्रता के बाद भी इसके कई महत्त्वपूर्ण भाग सेना के नियंत्रण में सन 2003 तक रहे।

लाल किले में विशिष्ट श्रेणी की कला एवं विभूषक कार्य का दर्शन होता है। यहाँ की सम्पूर्ण कलाकृतियाँ फारसी, यूरोपीय एवं भारतीय कला का मिला जुला रूप है, यह शैली रंग, अभिव्यंजना एवं रूप में उत्कृष्ट है। लालकिला (Delhi lal kila) दिल्ली की एक महत्त्वपूर्ण इमारत समूह है, जो भारतीय इतिहास एवं उसकी कलाओं को अपने में समेटे हुए हैं। इसका महत्त्व समय की सीमाओं से कंही बढ़कर है। दिल्ली का लालकिला वास्तुकला सम्बंधी प्रतिभा एवं शक्ति का जिवंत प्रतीक है। सन 1913में इसे राष्ट्रीय महत्त्व के स्मारक घोषित किया गया।

लाल किले की दीवारे (Delhi lal kila) बड़ी ही खूबसूरती से तराशी गईं हैं। ये दीवारें दो मुख्य द्वारों पर खुली हैं पहला दिल्ली दरवाज़ा एवं दूसरा लाहौर दरवाज़ा। लाहौर दरवाजा मुख्य प्रवेशद्वार है। इसके अन्दर एक लम्बा बाज़ार है, चट्टा चौक, जिसकी दीवारें दुकानों से कतारित हैं। इसके बाद थोड़ा बडा़ खुला स्थान है, जहाँ यह लम्बी उत्तर-दक्षिण सड़क को काटती हुई जाती है।

दिल्ली के महशूर लाल किले के आसपास का क्षेत्र

छाबरी बाजार  :-  यह लाल किले ठीक सामने स्थित है ।

लाहोरी दरवाजा :- यह दरवाजा लालकिले का मुख्य दरवाजा है इसे लाहोरी दरवाजा के नाम से जाना जाता है ।

दिल्ली दरवाजा  :-  यह दरवाजा दक्षिण की और स्थित है । इस दरवाजे के दोनों और विशाल हाथी बने हुवे हैं । इसे ओरंगजेब द्वारा तोड़ दिया गया था ।

पानी दरवाजा :- पानी दरवाजा काफी छोटा दरवाजा हैं , दक्षिण पूर्व में स्थित हैं ।

चट्टा चौक:- मुगल कल में यंहा पर हाट बाज़ार लगा करता था। लाहोरी गेट से अंदर जाने पर चट्टा चौक आता हैं।

नौबत खाना:– यंहा पर संगीतकार अपने अपनी संगीत कला का प्रदर्शन करते थे।

दीवान-ए-आम:-यह स्थान उस समय की कोर्ट हुवा करती थी, राजा, यही पर सुनवाई किया करते थे।

मुमताज महल:-यह राज की रानियों एवं उनकी दासियो के लिए स्थान था। वर्तमान में यंहा पर संग्रहालय हैं।

रंग महल :- यह भी मुमताज़ महल की तरह रानियों के लिए महल था । इस महल में एक नहर हुवा करती थी जिस पर पल बना हुवा था ।

दिवान-ए -खास :- यह बहुत ही खूबसूरत महल हुवा करता था । यह राजा का निजी महल था जिसे दिवान-ए – खास कहा जाता था ।

मोती मस्जिद :- इसे ओरंगजेब द्वारा बनाया गया था । यह बादशाह की निजी इबादतगाह हुवा करती थी ।

July 20, 2018 0 comment
0 Facebook Twitter Google + Pinterest

अगर पूछा जाए कि एक भारतीय होने के नाते आपको बिना वीजा (Visa) के किस देश में इंट्री मिल सकती है, तो आपको जवाब निश्चित तौर पर नेपाल और भूटान होगा। अगर हम कहें कि इसके अलावा भी बहुत से देश हैं, जहाँ आप बिना वीजा (Visa) के एंट्री कर सकते हैं, तो शायद आप चौंक जाएंगे। हालांकि यह सच है। नेपाल भूटान के अलावा दुनिया के ऐसे बहुत से देश हैं, जहाँ आप बिना वीजा (Visa) के जा सकते हैं।

हर किसी का सपना होता है कि कम से कम एक बार विदेश घूमने जाए लेकिन कभी पैसे कभी वीजा न मिलने के कारण अपने सपने को सपना ही बना देते है अब लोग बिना वीजा के और कम बजट में विदेश घूम कर आ सकते हैं हम आपको इस आलेख में बिना वीजा (Visa) और कम खर्च के इन देशों को घूमने (ट्रेवल) जा सकते है) बताने जा रहे हैं ऐसे 21 देश जहाँ पर भारतीय बिना वीजा और कम खर्च में आप इन देशों की यात्रा कर सकते हैं। अगर आपको विदेश घूमने जाना है और वीजा नहीं मिल रहा तो आपके लिए इससे अच्छी खबर कुछ भी नहीं। भारत सरकार के मुताबिक कोई भी भारतीय नागरिक जिनके पास पासपोर्ट है वह बिना किसी वीजा के इन 21 देशों की यात्रा कर सकते हैं। इन सभी देशों की लिस्ट निचे दी हुई है। इन सूचि में हमने सभी देशों के बारे में बताया है कि कहाँ पर आपको किसी भी वीजा की ज़रूरत नहीं है श्रीलंका के लिए किसी भी वीजा (Visa) की ज़रूरत नहीं है परन्तु स्पेशल परमिशन की आपको ज़रूरत होगी।

ग्लोबल फाइनेंस एडवाइजरी फर्म एंड कैपिटल ने हाल ही में एक रिपोर्ट जारी किया उनमे उन देशों की लिस्ट जारी की है, जिनके पासपोर्ट सबसे पावरफुल हैं। ऐसे देश जो दूसरे देशों में बिना वीजा के अपने नागरिकों को ट्रेवल करने की इजाजत देते हैं। इनमें सबसे पावरफुल पासपोर्ट स्वीडन देश का है,। जो अपने नागरिकों को 174 देशों में बिना वीजा के घूमने की इजाजत देता है दुनिया के सिर्फ़ 21 देश ऐसे हैं, जहाँ भारतीय पासपोर्ट रखने वाले बिना वीजा के ट्रैवल कर सकते हैं।

1 * हांगकांग

दिन: 14 दिन तक करेंसी रेट: 1 हांगकांग डॉलर = 8.59 भारतीय रु।

2 * ग्रेनाडा

दिन: 3 महीने तक करेंसी रेट: 1 ईस्ट कैरेबियन डॉलर = 24.67 रु।

3 * वनुआतु

दिन: 90 दिन तक करेंसी रेट: 1 वनुआतु वातु = 0.61 भारतीय रु।

4 * भूटान

दिन: 150 दिन तक करेंसी रेट: 1 भूटानी = 1 रु.

5 * मॉरीशस

दिन: 90 दिन तक

6* फिजी

दिन: 4 महीने  तक करेंसी रेट: 1 फिजी डॉलर = 31 रु.

7 * नेपाल

दिन: 150 दिन तक करेंसी रेट: 1 नेपाली रु. = 0.63 रु.

8 * इक्वाडोर

दिन: 90 दिन तक करेंसी रेट: 1 डॉलर = 66.60 रु.

9 *  हैती

दिन: 3 महीने तक करेंसी रेट: 1 हैतीयन गॉड्रे = 1.07 रु.

10 * एल सल्वाडोर

दिन: 90 दिन तक करेंसी रेट: 1 डॉलर = 66.66 रु.

11 * डॉमिनिका

दिन: 6 महीने  तक करेंसी रेट: 1 ईस्ट कैरेबियन डॉलर = 24.67 रु.

१२ * जमैका

दिन: 180 दिन तक करेंसी रेट: 1 डॉलर  = 0.54 रु.

उन देशों की सूचि जहाँ पर भारतीय को वीजा की जरुरत नहीं

1 * डोमिनिका – बिना वीजा

2 *   इकाडोर – बिना वीजा

3 *  अल सल्वाडोर – बिना वीजा

4 *   फिजी – बिना वीजा

5 * भूटान – बिना वीजा

6 *   ग्रेनाडा – बिना वीजा

7 *  हैती – बिना वीजा

8 *  जमैका – बिना वीजा

9 * मॉरीशस – बिना वीजा

10 *  माइक्रोनेशिया – बिना वीजा

11 *   सेंट किट्स और नेविस – बिना वीजा

12 *  नेपाल – बिना वीजा

13 *  त्रिनिदाद और टोबैगो – बिना वीजा

14 * वानुअतु – बिना वीजा

15 * भूटान – बिना वीजा

16 * हांगकांग – बिना वीजा

17 * दक्षिण कोरिया – बिना वीजा

18* एवाईआरओ मैसेडोनिया – बिना वीजा

19* स्वालबार्ड – बिना वीजा

20 * मोंटसेराट – बिना वीजा

21 *तुर्क और कैकोस द्वीप समूह – बिना वीजा

इस  तरह हम देखतें है की भारतीय होने के  नाते हम उपरोक्त देशों की यात्रा बिना वीजा के कर सकतें है । यदि आपके पास  पासपोर्ट है और आप विदेश घूमना चाहतें हैं तो उपरोक्त देशों की यात्रा बिना  वीजा के भी कर सकतें है ।

June 1, 2018 0 comment
0 Facebook Twitter Google + Pinterest
Loading...