Home Information अंहकार ही रावण के विनाश का कारण बना

अंहकार ही रावण के विनाश का कारण बना

written by Atul Mahajan September 30, 2017

भारतीय संस्कृति हमेशा से वीरता की पूजक है, शौर्य की उपासक रही है। व्यक्ति और समाज के रक्त में वीरता प्रकट हो इसलिए दशहरे का उत्सव रखा गया है। दशहरा का पर्व दस प्रकार के पापों-काम, क्रोध, लोभ, मोह मद, मत्सर, अहंकार, आलस्य, हिंसा और चोरी के परित्याग की सद्प्रेरणा प्रदान करता है।

दशहरे का सांस्कृतिक पहलू भी है। भारत कृषि प्रधान देश है। जब किसान अपने खेत में सुनहरी फसल उगाकर अनाज रूपी संपत्ति घर लाता है तो उसके उल्लास और उमंग का पारावार नहीं रहता। इस प्रसन्नता का कारण वह भगवान की कृपा को मानता है और उसे प्रकट करने के लिए वह उसका पूजन करता है। समस्त भारत वर्ष में यह पर्व विभिन्न प्रदेशों में विभिन्न प्रकार से मनाया जाता है।

भारतीय संस्कृति सदा से ही वीरता व शौर्य की समर्थक रही है। प्रत्येक व्यक्ति और समाज के रुधिर में वीरता का प्रादुर्भाव हो इस कारण से ही दशहरे का उत्सव मनाया जाता है। यदि कभी युद्ध अनिवार्य ही हो तब शत्रु के आक्रमण की प्रतीक्षा ना कर उस पर हमला कर उसका पराभव करना ही कुशल राजनीति है। भगवान राम के समय से यह दिन विजय प्रस्थान का प्रतीक निश्चित है। भगवान राम ने रावण से युद्ध में  इसी दिन विजय श्री को वरन किया था  । मराठा रत्न शिवाजी ने भी औरंगजेब के विरुद्ध इसी दिन प्रस्थान करके हिन्दू धर्म का रक्षण किया था। भारतीय इतिहास में अनेक उदाहरण हैं जब हिन्दू राजा इस दिन विजय-प्रस्थान करते थे।

दशहरे का धार्मिक महत्त्व पुराणों और शास्त्रों में दशहरे से जुड़ी कई अन्य कथाओं का वर्णन भी मिलता है। लेकिन सबका सार यही है कि यह त्यौहार असत्य पर सत्य की जीत का प्रतीक है।

दशहरा का त्यौहार सम्पूर्ण भारत में उत्साह और धार्मिक निष्ठा के साथ मनाया जाता है। इस दिन भगवान राम ने राक्षस रावण का वध कर माता सीता को उसकी कैद से छुड़ाया था। राम-रावण युद्ध नवरात्रों में हुआ था। रावण की मृत्यु अष्टमी-नवमी के संधिकाल में हुई थी और उसका दाह संस्कार दशमी तिथि को हुआ। जिसका उत्सव दशमी दिन मनाया, इसीलिये इस त्यौहार को विजयदशमी के नाम भी से जाना जाता है।

भारत के सभी स्थानों में इसे अलग-अलग रूप में मनाया जाता है। कहीं यह दुर्गा विजय का प्रतीक स्वरूप मनाया जाता है, तो कहीं नवरात्रों के रूप में। बंगाल में दुर्गा पूजा का विशेष आयोजन किया जाता है। यह त्यौहार हर्ष और उल्लास का प्रतीक है। इस दिन मनुष्य को अपने अंदर व्याप्त पाप, लोभ, मद, क्रोध, आलस्य, चोरी, अंहकार, काम, हिंसा, मोह आदि भावनाओं को समाप्त करने की प्रेरणा मिलती है। यह दिन हमें प्रेरणा देता है कि हमें अंहकार नहीं करना चाहिए, क्योंकि अंहकार के मद में डूबा हुआ एक दिन अवश्य ही मुंह की खाता है। रावण बहुत ही बड़ा विद्वान और वीर व्यक्ति था परन्तु उसका अंहकार ही उसके विनाश कारण बना। यह त्यौहार जीवन को हर्ष और उल्लास से भर देता है, साथ यह जीवन में कभी अंहकार न करने की प्रेरणा भी देता है।

महत्त्व पुराणों और शास्त्रों में दशहरे से जुड़ी कई अन्य कथाओं का वर्णन भी मिलता है। लेकिन इन सबका सार सिर्फ़ यही है कि यह त्यौहार असत्य पर सत्य की जीत का प्रतीक है। ऐसी मान्यता है कि इस दिन श्री राम जी ने रावण को मारकर असत्य पर सत्य की जीत प्राप्त की थी, तभी से यह दिन विजयदशमी या दशहरे के रूप में प्रसिद्ध हो गया। दशहरे के दिन जगह-जगह रावण, कुंभकर्ण और मेघनाथ के पुतले जलाए जाते हैं। देवी भागवत के अनुसार इस दिन माँ दुर्गा ने महिषासुर नामक राक्षस को परास्त कर देवताओं को मुक्ति दिलाई थी, इसलिए दशमी के दिन जगह-जगह देवी दुर्गा की मूर्तियों की विशेष पूजा की जाती है। कहते हैं, रावण को मारने से पूर्व राम ने दुर्गा की आराधना की थी। माँ दुर्गा ने उनकी पूजा से प्रसन्न होकर उन्हें विजय का वरदान दिया था। भक्तगण दशहरे में माँ दुर्गा की पूजा करते हैं। कुछ लोग व्रत एवं उपवास करते हैं। दुर्गा की मूर्ति की स्थापना कर पूजा करने वाले भक्त मूर्ति-विसर्जन का कार्यक्रम भी गाजे-बाजे के साथ करते हैं।

क्या था रावण का इतिहास

रावण का शरीर आर्य और अनार्य रक्त से निर्मित है। ब्रह्मा कुल में जन्में महर्षि पुलस्त्य का नाती होने के कारण वह आर्य ब्राह्मण है और दैत्यवंशी कैकसी-पुत्र होने से वह दैत्य है। लंका रावण के अधिकार में आने से पहले दैत्यों की थी। माली, सुमाली और माल्यवान नाम के तीन भाइयों ने अपने तेज, शौर्य और पराक्रम से त्रिकुट-सुबेल पर्वत पर लंकापुरी बसाई. इन तीनों का विवाह नर्मदा नाम की गंधर्वी ने अपनी तीन पुत्रियों से किया। इससे दैत्यवंश की वृद्धि हुई. इन तीनों ने लगातार लड़ाइयां जारी रख आसपास के द्वीपों पर भी कब्जा कर लिया और लंका में स्वर्ण, रत्न, मणि, माणिक्य का विशल भंडार इकट्ठा कर लिया। काश्यप सागर के किनारे बसे द्वीप में स्थित सोने की खानों पर आधिपत्य को लेकर देवासुर संग्राम हुआ। इस भयंकर युद्ध में ये तीनों भाई भी शामिल हुए. इसमें माली मारा गया और दैत्यों की हार हुई. देवताओं के आतंक से भयभीत होकर सुमाली और माल्यवान अपने परिवारों के साथ पाताल लोक भाग गए. इसके बाद लंका का वैश्रवा आर्य और देवों की सहमति से कुबेर लंका नरेश बना।

इसके बाद में लंका पर दैत्यों के राज्य की पुनर्स्थापना करने की लालसा से सुमाली अपने ग्यारह पुत्रों और रूपवती कन्या कैकसी के साथ पाताल लोक में आंध्रालय आया। उसने पुलस्त्य पुत्र विश्रवा के आश्रम में शरण ली। सुमाली ने कैकसी को विश्रवा की सेवा में अर्पित कर दिया। विश्रवा कैकसी पर मोहित हो गए. उनके संसर्ग से कैकसी ने तीन पुत्रों रावण, कुंभकरण, विभीषण और एक पुत्री शूर्पनखा को जन्म दिया। इन संततियों ने यहीं वेदों का अध्ययन और युद्धाभ्यास किया। मसलन रावण सुंदर, शील, तेजस्वी और तपस्वी माता-पिता की वर्णसंकर संतान था। पांडित्य गुणों का समावेश उसके चरित्र में बाल्यकाल से ही हो गया था।

एक दिन कुबेर अपने पिता विश्रवा से मिलने पुष्पक विमान से आया। कैकसी ने रावण का परिचय कुबेर से कराया। रावण कुबेर से प्रभावित तो हुआ लेकिन उसके ऐश्वर्य से रावण को ईर्ष्या भी हुई. यहीं से रावण में प्रतिस्पर्धा करने और महत्त्वाकांक्षी होने की भावनाएं बलवती हुईं और उसने कुबेर से बड़ा व्यक्ति बनने का व्रत लिया।

बाद में सुमाली ने ही रावण को बताया कि लंका मेरी और मेरे सहोदरों की थी। सुमाली ने यहीं से रावण को लंका पर कब्जा कर लेने के लिए प्रोत्साहित करना शुरू कर दिया। रावण ने कई द्वीपों पर विजय पताका फहराते हुए बाली और सुंबा द्वीपों पर रक्ष संस्कृति की स्थापना का झंडा फहरा दिया। सुंबा में ही रावण का परिचय दनु पुत्र मय और उसकी सुंदर पुत्री मंदोदरी से हुआ। मय ने रावण को अपनी आपबीती बताते हुए कहा कि देवों ने उसका नगर “उरपुर” और उसकी पत्नी हेमा को छीन लिया है। यहीं मय ने रावण के पराक्रम को स्वीकारते हुए मंदोदरी से विवाह कर लेने का प्रस्ताव रावण के सामने रखा। रावण ने धर्मपूर्वक अग्नि को साक्षी मानकर वैदिक पद्धति से मंदोदरी के साथ विवाह किया।

लंकाधिपति बनने का बाद सीता का हरण किया पश्चात् राम – रावण  युद्ध  हुवा  इस  युद्ध  में रावण सहित  पूरा  राक्षस  कुल  मारा  गया ।

You may also like

Leave a Comment

Loading...